हवा में उड़ रहा था विमान और यात्री खोलने लगा आपातकालीन गेट, वाराणसी एयरपोर्ट पर सीआइएसएफ ने लिया हिरासत में

वाराणसी।  दिल्ली से वाराणसी आ रहे स्पाइसजेट एयरलाइंस के विमान में शनिवार को एक यात्री ने उन्नाव के समीप हवा में आपातकालीन द्वार खोलने का प्रयास किया। उसकी हरकत देख अन्य यात्री दहशत में आ गए। हालांकि क्रू मेंबर व अन्य यात्रियों की मदद से उसे काबू में किया गया।

विमान से आ रहे बड़ागांव के प्रयागपुर निवासी राहुल पांडेय ने बताया कि उड़ान भरने के बाद से यात्री अजीबोगरीब हरकतें कर रहा था। करीब तीन बजे वह टहलते हुए इमरजेंसी गेट के पास गया और खोलने का प्रयास करने लगा। यह देखकर राहुल पांडेय, उनके पिता कैलाश पांडेय व एक अन्य यात्री ने उसे पकड़ लिया। तब तक क्रू मेंबर पहुंच गए। करीब 40 मिनट तक उसे पकड़कर रखा गया। पायलट ने सूचना एटीसी (एयर ट्रैफिक कंट्रोल) को दे दी। जिससे विमान उतरने से पहले वाराणसी एयरपोर्ट के एप्रन पर सीआइएसएफ और एयरलाइंस के सुरक्षाकॢमयों को तैनात कर दिया गया। विमान की लैंडिंग के बाद सुरक्षाकॢमयों ने उसे हिरासत में ले लिया। फूलपुर पुलिस ने सायंकाल पिंडरा पीएचसी पर उसका मेडिकल कराने के बाद बताया कि प्रथमदृष्टया यात्री की मानसिक स्थिति ठीक नहीं लग रही है।

स्पाइसजेट एयरलाइंस के बाम्बियर विमान एसजी 2003 ने शनिवार अपरान्ह 2.22 बजे 89 यात्रियों को लेकर दिल्ली एयरपोर्ट से उड़ान भरी थी। विमान में हरियाणा के गुडग़ांव का गौरव खन्ना नामक यात्री भी था। अधिकारियों की मानें तो उड़ान भरने के बाद ही यात्री उल्टी-सीधी हरकतें करने लगा। विमान जब उन्नाव जिले के समीप आसमान में करीब 23 हजार फीट ऊपर था, उसी समय गौरव ने आपातकालीन गेट खोलने का प्रयास किया। क्रू मेंबर, यात्रियों ने किसी तरह उसे काबू में किया। सायं 3.40 बजे एयरपोर्ट पर विमान उतरने के बाद एयरलाइंस के सुरक्षाकर्मी अंदर गए और यात्री को बाहर निकाला। इसके बाद सीआइएसएफ के जवानों उसे हिरासत में लेकर पुलिस के हवाले कर दिया।

हवा में खुल जाता द्वार तो होता बड़ा हादसा

उडऩे के समय विमान का द्वार खुल जाता तो बड़ा हादसा हो सकता था। जानकारों का कहना है कि 20 हजार फीट या इससे अधिक ऊंचाई पर उड़ रहे विमान का द्वार खुल जाने पर हवा का अधिक दबाव होने के चलते विमान का संतुलन बिगड़ जाता जिससे नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता।