ब्रेकिंग
एक महीने में हुए चार 'दुराचारी सभा' में पहुंचे सिर्फ 844 हिस्ट्रीशीटर,दरी पर बैठना उन्हें नहीं पसंद बोले- 5 साल से कर रहा था तैयारी, अब बना राजस्थान का टॉपर गुरु अमरदास एवेन्यू के निवासियों ने ब्लॉक किया जीटी रोड, MLA के खिलाफ प्रदर्शन भूप्रेंद्र सिंह हुड्‌डा ने कहा गांधीवादी तरीके से करेंगे विरोध, सरकार रद्द करके अग्निपथ फर्जी दस्तावेज तैयार कर कब्जाई थी जमीनें, पुलिस की गिरेबान पर हाथ डालने के बाद आया था चर्चा में सनी नागपाल भुवनेश्वर कुमार तोड़ेंगे पाकिस्तानी गेंदबाज का रिकॉर्ड डेब्यू मैच में फ्लॉप रहे उमरान मलिक घर में रखा फ्रिज सिर्फ उपकरण नहीं, है वास्तु शास्त्र की रहस्मयी व्याकरण... इस दिशा में रखने से चमक जाता है भाग्य पंचायत के प्रथम चरण के चुनावों के बाद EVM का हुआ रेंडमाइजेशन  जी-7 समिट में हिस्सा लेने जर्मनी पहुंचे पीएम मोदी, प्रवासी भारतीयों ने गर्मजोशी से किया स्वागत

यूपी के बाहुबली मुख्तार अंसारी को ले जाने वाली एंबुलेंस पंजाब के रूपनगर-नंगल हाईवे पर मिली

नंगल (रूपनगर)। उत्‍तर प्रदेश के बाहुबली नेजा मुख्तार अंसारी को रूपनगर जेल से जिस एंबुलेंस में 31 मार्च को मोहाली कोर्ट ले जाया गया था वह रूपनगर-नंगल हाईवे पर रविवार देर रात नानक ढाबे के पास मिली है। यह ढाबा रूपनगर से साढ़े तीन किलोमीटर की दूरी पर है। बताया जा रहा है कि एंबुलेंस की नंबर प्लेट पर मिट्टी लगी हुई थी। कुछ लोगों ने जब एंबुलेंस को देखा तो पुलिस को सूचना दी। डीएसपी टीएस गिल ने बताया कि एंबुलेंस को पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया है।

उल्लेखनीय है कि इस एंबुलेंस को बाराबंकी (उत्तर प्रदेश) में फर्जी तरीके से पंजीकृत करवाया गया था। उत्तर प्रदेश पुलिस इस मामले में केस दर्ज कर जांच कर रही है। पंजाब के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी (गृह) की ओर से उत्तर प्रदेश के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी (गृह) को पत्र लिखे जाने के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस की टीम सोमवार को पंजाब पहुंचने वाली है।

बताया जाता है कि मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश ले जाने के साथ ही यूपी पुलिस को इस एंबुलेंस की भी तलाश है। इस एंबुलेंस को बुलेट प्रूफ बताया गया था, लेकिन पंजाब के एडीजीपी जेल पीके सिन्हा ने इसका खंडन किया था।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मुख्‍तार अंसारी को उत्‍तर प्रदेश की जेल में शिफ्ट किया जा रहा है। मुख्‍तार अंसारी काफी समय से पंजाब की जेल में बंद है और उत्‍तर प्रदेश सरकार उसे अपने यहां भेजने की मांग कर रही थी। लेकिल, पंजाब सरकार उसके खराब  स्‍वास्‍थ्‍य का हवाला देकर पंजाब से भेजने से इन्‍कार कर रही‍ थी। इस पर पंजाब में भी सियासी महौल गर्म हो गया था और कैप्‍टन अमरिंदर सिंह सरकार निशाने पर आ गई थ्‍सी। इसके बाद मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया था। मुख्‍तार अंसारी को 8 अप्रैल को पंजाब की रोपड़ जेल से भेजा जाएगा।