ब्रेकिंग
एकदंत संकष्टी चतुर्थी कल अप्रैल के जीएसटी कर भुगतान की तारीख बढ़ी वैश्विक स्तर पर अकेले वायु प्रदूषण से 66.7 लाख लोगों की मौत ऑनलाइन गेमिंग, कैसिनो पर 28 फीसदी जीएसटी लगाने की तैयारी, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने दी प्रस्ताव को मंजूरी एक दिन की बढ़त के बाद फिसला बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी लाल निशान में क्लोज, पॉवर ग्रिड सबसे ज्यादा लुढ़का पीएम आवास योजना को लेकर सरकार ने किया बड़ा ऐलान! सभी पर पड़ेगा असर कश्मीर घाटी में अभी और होगी बारिश, जम्मू में चल सकती है लू, अलर्ट जारी सुप्रीम कोर्ट ने एजी पेरारिवलन को रिहा किया फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में आवेदन की प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जा सकती है बॉडी शेम का शिकार हो चुकीं बॉलीवुड अभिनेत्रियों की हैं लंबी लिस्ट, हाइपेड एक्ट्रेस में होती हैं इनकी गिनती!

45 साल से अधिक आयु वाले 21 लाख 23 हजार लोगों को लगी पहली डोज

रायपुर। छत्‍तीसगढ़ में 45 वर्ष से अधिक आयु समूह के लोगों को वैक्सीन लगने लगी है। अब तक इस आयु समूह में 21 लाख 23 हजार 192 लोगों को पहली डोज लग चुकी है तथा 32 हजार 861 को दूसरी डोज भी लगाई जा चुकी है।

लेकिन लोगों के मन में यह भ्रांति है कि वैक्सीन लगने के बाद वे पूरी तरह सुरक्षित है, जबकि यूनीसेफ और अन्य विषेश्ज्ञ भी यह लगातार कह रहे हैं कि वैक्सीन, कोविड 19 संक्रमण होने के बाद की गंभीर स्थिति से बचाता है, संक्रमण से नहीं बचाता है।

यूनीसेफ के स्वास्थ्य विषेशज्ञ डाक्‍टर श्रीधर ने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचने का सबसे सही उपाय है कि चाहे किसी को वैक्सीन लगी हो या नहीं। मास्क सही तरीके से लगाएं। साबुन पानी से नियमित हाथ धोएं और दूसरों से दो गज की सुरक्षित दूरी रखें। इसके अलावा हल्के लक्षण जैसे सर्दी,खांसी,बुखार, थकान, भूख न लगना आदि पर भी तुरंत कोरोना जांच करानी चाहिए।