ब्रेकिंग
केरल में भारी बारिश, IMD ने जारी किया येलो अलर्ट; खोले गए 2 बांध जयपुर से लौटे रमन, कहा- भाई-भतिजावाद और परिवारवाद की वजह से कांग्रेस की हुई ये स्थिति अब इस प्राइवेट सेक्टर के बैंक ने एफडी की ब्याज दरों में की बढ़ोतरी, जानें लेटेस्ट ब्याज दर NIA अफसर तंजील अहमद मर्डर केस में मुनीर और रैयान को फांसी की सजा ज्ञानवापी मामले में ‘शिवलिंग’ पर आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले प्रोफेसर रतन लाल को ज़मानत, जानें कोर्ट में क्या-क्या हुआ पेटीएम को हुआ 762 करोड़ रुपये का घाटा, कंपनी ने कहा- सही रास्ते पर कारोबार जिला जज को हैंडओवर की ज्ञानवापी केस की रिपोर्ट UP विधानसभा लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करेगी : सतीश महाना 'ठेके-पटटे, तबादला-तैनाती' से रहें दूर : सीएम योगी ईयर फोन का ज्यादा इस्तेमाल हो सकता है खतरनाक, कानों को हो सकते हैं ये गंभीर नुकसान

बाथरूम में फंसी डेढ़ साल की बच्ची, दमकलकर्मियों ने आधे घंटे की मशक्‍कत के बाद सकुशल निकाला

भोपाल। कोलार के ग्राम सलैया में रहने वाले एक परिवार की सांसें उस समय थम सी गईं, जब उनकी डेढ़ साल की मासूम तीसरी मंजिल पर स्थित बाथरूम में फंस गई। काफी कोशिश के बाद जब बाथरूम का दरवाजा नहीं खुला तो परिजनों ने फायर बिग्रेड को सूचना दी। जिस पर कोलार के फायर अफसर अपनी टीम के साथ पहुंचे और आधे घंटे की मशक्कत के बाद बच्ची को सकुशल बाहर निकाल लिया।

जानकारी के अनुसार बीडीए कॉलोनी सलैया के तीसरी मंजिल पर बी 25 /16 में पवन कुमार छीपिया अपने परिवार के साथ रहते हैं। उनकी डेढ़ साल की बिटिया जाह्नवी काफी चंचल है और पूरे घर में घूमती रहती है। मंगलवार दोपहर में वह खेलते-खेलते बाथरूम में घुस गई और अंदर से दरवाजे की सटकनी को बंद कर लिया। जब जान्हवी काफी देर तक नजर नहीं आई तो परिजनों ने उसकी तलाश की। बाथरूम में जाकर देखा तो उसका दरवाजा अंदर से बंद था। परिजनों ने बच्‍ची को पुकारा, अंदर से कुछ आवाज आई। परिजनों ने बाथरूम का दरवाजा खोलने की काफी कोशिश की, लेकिन वह नहीं खुला। हारकर उन्‍होंने फायर ब्रिगेड को कॉल किया। सूचना मिलने पर कोलार के फायर अधिकारी पंकज खरे अपनी टीम के साथ पहुंचे।

आधे घंटे में बच्ची को सुरक्षित निकाला

कोलार के फायर स्टेशन प्रभारी पंकज खरे ने बताया कि दोपहर में सूचना मिलते ही दस मिनट में मौके पर हमारी टीम पहुंच गई थी। बच्ची बाथरूम में अंदर थी, बाहर से बाथरूम में पहुंचना मुमकिन नहीं था। बाद में बाथरूम के दरवाजे में छेद कर हाथ डालकर अंदर से बंद सटकनी को खोला और बच्ची को आधे घंटे में सुरक्षित निकाला। बच्ची अंदर बंद होने के कारण काफी डर गई थी।