ब्रेकिंग
गर्मी के चलते वेस्टर्न रेलवे ने 12 एसी लोकल ट्रेनें शुरू की, जानें कहां से कहां तक हैं ये ट्रेन पुलिस की सराहनीय पहल, प्रतिभावान छात्राओं के घर-घर जाकर किया सम्मानित, बच्चों ने आईएएस, डाॅक्टर व सीए बनने की जताई ईच्छा MP में तालों में कैद भगवान! MLA आकाश विजयवर्गीय बोले- जल्द खुलेगा बोलिया सरकार छत्री का शिव मंदिर एलपीजी गैस सिलेंडर पर लेना चाहते हैं सब्सिडी, फॉलो करें यह आसान प्रोसेस सूरज की तपिश से बादलाें ने दिलाई राहत बोरिंग माफियाओं की मनमानी से इंदौर में गहराया जल संकट नहीं रोक लगा पा रहा नगर निगम, आज भी रोजाना हो रहे 20-25 अवैध बोरिंग चीनी विमान जानबूझकर नीचे लाकर क्रैश कराया गया था श्रीराम सेना का दावा- कर्नाटक में 500 अवैध चर्च ग्राम देवादा में जल सभा का आयोजन एक ही परिवार के 3 लोगों के मर्डर का खुलासा, परिजन ही निकले हत्यारे, ये बनी हत्या की वजह

भाटापारा कोविड-19: संक्रमण रोकने-थामने नगरपालिका की संजीदगी नदारद

भाटापारा जरा हटके । प्रदेश के बड़े नगरिय निकाय भाटापारा नगर पालिका में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस को रोकने के लिए यथोचित प्रबंध करने तत्परता नजर नहीं आ रही है।
बड़े-बड़े वादे, झूठी बातें तथा आश्वासन के बीच नगर की जनता को आम सुविधा दिलाने में भी पालिका पूरी तरह विफल दिख रही है।

संक्रमण से बचने कुछ उपाय करना जरूरी–

जनप्रतिनिधियों के प्रतिनिधियों के सहारे चल रही भाटापारा पालिका महामारी के दौर में दूसरे संक्रमण काल को रोकने अगर उचित कदम उठाए तो कुछ हद तक शहरवासियों को इससे राहत मिल सकती है। लॉकडाउन के दौरान बाजारों में सेनीटाइज तथा नगर के हर वार्ड में फागिंग मशीन का इस्तेमाल कर संक्रमण, प्रदूषण को हराया जा सकता है। नगर के हर बड़े चौक चौराहे वार्डों में फैली गंदगी से निजात दिलाने में लॉक डाउन का फायदा उठा अभियान चलाया जा सकता है। वार्ड पार्षदों तथा आम नागरिकों से ही मिल रही शिकायत के अनुसार नगर में बज बजाई नाली तथा फैली गंदगी लोगों का जीना मुश्किल कर रही है ।लगातार हो रही शिकायतों के बाद भी इस गंदगी से लोगों को राहत नहीं मिल पा रही है। नगर पालिका अपने दायित्वों को समझे और फोटो फैशन, बड़े-बड़े वादे को पीछे कर जनहित में कोई कारगर काम करें।

पालिका द्वारा किए गए कार्य पर उठ रहे सवाल–

पालिका द्वारा किए गए कार्य हमेशा से संदेह के दायरे में रहते हैं। कोरोना काल के प्रथम चरण के दौरान पालिका द्वारा अनेक जगह पानी टंकी लगा कर हाथ सैनिटाइज करने की व्यवस्था की गई थी। जो कि महज 15 से 20 दिनों बाद ही ध्वस्त नजर आई। नगर पालिका अधिकारी कर्मचारियों द्वारा चौक चौराहे में बिना मास्क लगाए लोगों से चालान वसूलना ही अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन समझते हैं। बिना मास्क लगाए लोगों चालान समझाइश देने चाहिए, पर जब नगर पालिका परिषद के भाजपा पार्षद द्वारा रसीद ना देने का आरोप लगाया जाता है, तो सोचनीय विषय हो जाता है।
——————————-
वायरस का तांडव बढ़ रहा
वैक्सिन सेन्टर 7० हज़ार की आबादी में अब एक वैक्सीन सेंटर चल रहा है। मेन हिंदी वाले सेंटर को दो बार चालू बंद किया जा चुका है । मातादेवालय का सेंटर भी बंद हो गया।वजह संख्या में कमी बतायी जा रही है।टिकाकरण लगभग पूर्णता की ओर है। लेकिन छुटे हुए लोग, भविष्य में खतरा बन सकते हैं।
पिछले कुछ दिनों से शहर में लगातार 100 से ज्यादा मरीज प्रतिदिन मिल रहे हैं , एवं जिंदगी की लड़ाई हारने वालों का आंकड़ा भी रोज बढ़ रहा है । ऐसे में समय पर लॉक डाउन एक महत्वपूर्ण निर्णय है। प्रशासन की कढ़ाई की बजाए आम जनता की जागरूकता ही अब इस पर रोकथाम लगा सकती है।