ब्रेकिंग
केरल में भारी बारिश, IMD ने जारी किया येलो अलर्ट; खोले गए 2 बांध जयपुर से लौटे रमन, कहा- भाई-भतिजावाद और परिवारवाद की वजह से कांग्रेस की हुई ये स्थिति अब इस प्राइवेट सेक्टर के बैंक ने एफडी की ब्याज दरों में की बढ़ोतरी, जानें लेटेस्ट ब्याज दर NIA अफसर तंजील अहमद मर्डर केस में मुनीर और रैयान को फांसी की सजा ज्ञानवापी मामले में ‘शिवलिंग’ पर आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले प्रोफेसर रतन लाल को ज़मानत, जानें कोर्ट में क्या-क्या हुआ पेटीएम को हुआ 762 करोड़ रुपये का घाटा, कंपनी ने कहा- सही रास्ते पर कारोबार जिला जज को हैंडओवर की ज्ञानवापी केस की रिपोर्ट UP विधानसभा लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करेगी : सतीश महाना 'ठेके-पटटे, तबादला-तैनाती' से रहें दूर : सीएम योगी ईयर फोन का ज्यादा इस्तेमाल हो सकता है खतरनाक, कानों को हो सकते हैं ये गंभीर नुकसान

कांग्रेस चिंतन शिविर: CM बघेल ने जोरदार तरीके से रखी अपनी बात, कहा- देश के सर्वांगीण विकास के लिए कांग्रेस के अलावा कोई विकल्प नहीं

उदयपुर: राजस्थान के उदयपुर (Udaipur) में कांग्रेस का तीन दिवसीय चिंतन शिविर (Congress Chintan Shivir) शुरू हो गया है. 15 मई तक चलने वाले इस चिंतन शिविर में लगातार चुनाव में हार और कांग्रेस नेताओं में असंतुष्टि को लेकर चर्चा होगी. इस शिविर में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी जोरदार तरीके से अपनी बातें रखी.

इस दौरान सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि देश के सर्वांगीण विकास के लिए कांग्रेस के अलावा कोई विकल्प नहीं है. कांग्रेस ने मूलभूत सुविधाओं को लेकर लोगों का अधिकार दिया है.

सीएम बघेल ने कहा कि राइट्स बेस्ड मॉडल पर कांग्रेस का भरोसा, खाद्य सुरक्षा कानून, RTE, RTI कांग्रेस की देन है. राहुल गांधी के न्याय मॉडल राजस्थान और छत्तीसगढ़ मॉडल में लागू किया गया. इसे देश के सामने पेश करने की जरूरत है. पिछले आठ सालों में कितना और किसका विकास हुआ ये सबके सामने है. देश को विकास की नई परिभाषा देने का वक्त है.

इसके पहले शिविर में सोनिया गांधी ने भाजपा और आरएसएस पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा कि भाजपा और आरएसएस की नीतियों के कारण देश जिन चुनौतियों का सामना कर रहा है, उस पर विचार करने के लिए ये शिविर एक बहुत अच्छा अवसर है.

सोनिया गांधी ने कहा कि देश में महात्मा गांधी के हत्यारे का महिमामंडन हो रहा है. नोटबंदी से देश को गहरी चोट लगी है. आज संविधान खतरे में है. सोनिया ने कहा कि मोदी सरकार देश में पूरी तरह से ध्रुवीकरण करके चुनाव जीतना चाहती है. उन्होंने कहा कि सरकार मिनिमम गवर्नमेंट मैक्सिमम गवर्नेंस से क्या साबित करना चाहती है? ऐसा लग रहा है कि इसका अर्थ इन लोगों ने लोगों को पीड़ित और प्रताड़ित करना हो गया है.