ब्रेकिंग
पंचायत के प्रथम चरण के चुनावों के बाद EVM का हुआ रेंडमाइजेशन  जी-7 समिट में हिस्सा लेने जर्मनी पहुंचे पीएम मोदी, प्रवासी भारतीयों ने गर्मजोशी से किया स्वागत किंजल की गोदभराई से लीक हुईं तस्वीरें अग्निपथ योजना के खिलाफ देशव्यापी विरोध प्रदर्शन करेगी कांग्रेस  मूंगे की माला से बढ़ती है सुख समृद्धि   माइनिंग विभाग ने बनास नदी से अवैध खनन करते एक ट्रेलर को किया जब्त रैकी कर रात के अंधेरे में बोलेरो में डालकर चुराते थे बकरियां युंगाडा की महिला ने 40 की उम्र तक 44 बच्चों को जन्म दे चुकी  प्रदर्शनकारियों के बीच पहुंचे सांसद दीपेन्द्र हुड्‌डा; 1 बजे खत्म होगा धरना पलंग के नीचे भूलकर भी न रखें ये सामान, रिश्तों में आ जाती है खटास

पारिवारिक विवाद के बाद महिला ने इंदिरा सेतु से लगाई छलांग

बिलासपुर।  घर में विवाद महिला सीधे इंदिरा सेतु पहुंच गई और नदी में छलांग लगा दी। नीचे कीचड़ होने के कारण उसकी जान बच गई। आसपास के लोगों ने उसे बाहर निकालकर पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने महिला को अस्पताल में भर्ती कराया। इसके बाद घटना की जानकारी उसके परिवार वालों को दी। अस्पताल में उपचार के बाद महिला को परिवार के हवाले कर दिया गया है।

सरकंडा थाना प्रभारी जेपी गुप्ता ने बताया कि चांटीडीह के रामायण चौक में रहने वाली नाजिया बेगम(25 वर्ष) मंगलवार की दोपहर नेहरू चौक की ओर से इंदिरा सेतु पहुंचीं। पुल के बीच पहुंचकर महिला ने नीचे देखा और फिर नदी में छलांग लगा दी। पुल से गुजर रहे युवक इस घटना को देखकर तुरंत नीचे पहुंचे।

उन्होंने महिला को कीचड़ से बाहर निकाला। उसे ज्यादा चोट नहीं आई थी। इसके बाद महामाया चौक में तैनात पुलिसकर्मियों को इसकी जानकारी दी गई। इस पर पुलिस ने महिला को उपचार के लिए अस्पताल भेज दिया। महिला ने बताया कि पारिवारिक विवाद के कारण वह परेशान थी।

पुल से गुजरते हुए उसे कुछ नहीं सुझा तो छलांग लगा दी। पूछताछ में महिला ने विवाद का कारण नहीं बताया है। पुलिस ने महिला के पति वकील खान को इसकी सूचना देकर बुलाया। महिला ने पति के साथ जाने की बात कही। इस पर पुलिस ने महिला को पति के साथ भेज दिया है।

समय रहते मिली मदद इसलिए बच गई जान

महिला ने जिस जगह पर छलांग लगाई वहां पानी कम था। इसके बावजूद वह कीचड़ में धंस गई थी। इससे उसे गंभीर चोटे नहीं आई थी। आसपास मौजूद लोगों ने उसे पुल से छलांग लगाते देख लिया। इस पर उसे तुरंत ही निकालकर अस्पताल भेज दिया गया।

समय रहते मदद और उपचार के कारण उसकी जान बच गई। सरकंडा थाना प्रभारी जेपी गुप्ता ने महिला को समझाइश दी है। साथ ही किसी प्रकार की समस्या आने पर अपना मोबाइल नंबर देकर संपर्क करने कहा है।