ब्रेकिंग
डोमेस्टिक का चार्ज लगेगा, बिजली बिलों में 2 रुपए प्रति यूनिट का मिलेगा फायदा एक महीने में हुए चार 'दुराचारी सभा' में पहुंचे सिर्फ 844 हिस्ट्रीशीटर,दरी पर बैठना उन्हें नहीं पसंद बोले- 5 साल से कर रहा था तैयारी, अब बना राजस्थान का टॉपर गुरु अमरदास एवेन्यू के निवासियों ने ब्लॉक किया जीटी रोड, MLA के खिलाफ प्रदर्शन भूप्रेंद्र सिंह हुड्‌डा ने कहा गांधीवादी तरीके से करेंगे विरोध, सरकार रद्द करके अग्निपथ फर्जी दस्तावेज तैयार कर कब्जाई थी जमीनें, पुलिस की गिरेबान पर हाथ डालने के बाद आया था चर्चा में सनी नागपाल भुवनेश्वर कुमार तोड़ेंगे पाकिस्तानी गेंदबाज का रिकॉर्ड डेब्यू मैच में फ्लॉप रहे उमरान मलिक घर में रखा फ्रिज सिर्फ उपकरण नहीं, है वास्तु शास्त्र की रहस्मयी व्याकरण... इस दिशा में रखने से चमक जाता है भाग्य पंचायत के प्रथम चरण के चुनावों के बाद EVM का हुआ रेंडमाइजेशन

24 घंटे में मिले कोरोना की जांच रिपोर्ट, इसलिए निजी लैब को भेजे जाएंगे सैंपल

भोपाल। कोरोना की दूसरी लहर के बीच संक्रमण का प्रकोप बढ़ने के सा‍थ स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने हर जिले में सैंपलिंग की संख्‍या तो बढ़ा दी है, लेकिन दिक्‍कत यह है कि लोगों को आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट कई-कई दिनों तक नहीं मिल पा रही। रिपोर्ट के इंतजार में मरीजों की हालत बिगड़ रही है। इतना ही नहीं, इस दौरान अनजाने में वह दूसरों को भी संक्रमित करते रहते हैं। संक्रमण बढ़ने की यह बड़ी वजह है। इसे देखते हुए स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की ओर से अब यह निर्देश जारी किया गया है कि सभी जिलों को कोरोना की आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट 24 घंटे के भीतर उपलब्ध करानी होगी। जिन जिलों में ज्यादा सैंपल आएंगे, वहां पर मप्र पब्लिक हेल्थ सप्लाई कॉरपोरेशन द्वारा अनुबंधित लैब को कुछ सैंपल जांच के लिए भेजे जाएंगे। स्वास्थ्य आयुक्‍त आकाश त्रिपाठी ने यह निर्देश सभी जिलों को दिए हैं। आदेश में यह भी साफ किया गया है कि किस जिले में कितने सैंपल एकत्र होने पर कुछ सैंपल निजी लैब में भेजे जाएंगे।

कोरोना मरीजों की डायलिसिस के लिए हर मेडिकल कॉलेज में होगी एक मशीन

कोरोना मरीजों की डायलिसिस के लिए निजी और सरकारी सभी मेडिकल कॉलेजों से संबद्ध अस्पतालों में एक मशीन रखनी होगी। इसके अलावा ऐसे जिला अस्पताल जहां डायलिसिस की सुविधा है और मरीज डायलिसिस के लिए पहले से वहां पंजीकृत हैं उनके कोरोना संक्रमित होने पर मेडिकल कॉलेज में सुविध्ाा होने की जानकारी दी जाएगी। बता दें कि भोपाल में किसी भी सरकारी अस्पताल में कोरोना संक्रमित मरीज की डायलिसिस नहीं हो पा रही है। एम्स में मशीन होने के बाद भी कोरोना वार्ड में कोई मशीन नहीं रखी गई है। वहीं हमीदिया अस्पताल में कोरोना वार्ड में दो मशीनें हैं, लेकिन बिस्तर ही खाली नहीं हैं। कुछ निजी अस्पतालों में ही कोरोना मरीजों की डायलिसिस हो पा रही है।