ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

चार महीने पहले जनशताब्दी ट्रेन की पेंट्रीकार लाइसेंसी ने खींच लिया हाथ, हो रही दिक्कत

बिलासपुर।  गोंदिया-रायगढ़ जनशताब्दी एक्सप्रेस में पेंट्रीकार की सुविधा बंद हो गई है। यात्रियों की कम संख्या और इससे हो रहे नुकसान को देखते हुए लाइसेंसी ने चार महीने पहले ही हाथ खींच लिया। उसने पेंट्रीकार से खानपान नहीं दे पाने की असमर्थता आइआरसीटीसी को लिखित में जताई है। इसके अलावा तीन अन्य ट्रेन दुर्ग-निजामुद्दीन संपर्कक्रांति एक्सप्रेस, दुर्ग-उधमपुर और कोरबा-अमृतसर छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस में पेंट्रीकार व ट्रेन साइड वेंडिंग के जरिए यात्रियों को खानपान की सुविधा नहीं मिल रही है।

खानपान की व्यवस्था बढ़ते संक्रमण के कारण लड़खड़ा रही है। इन ट्रेनों का परिचालन स्पेशल के रूप में हो रहा है। यही वजह है कि जब यह नियमित चलती थी और उसम समय जो पेंट्रीकार का टेंडर हुआ था वह अपने आप बंद हो गया। स्पेशल ट्रेन के कारण नए सिरे से टेंडर किया जा रहा है। हालांकि टेंडर की अवधि दो से छह महीने ही होती है। चूंकि स्थिति सामान्य होने लगी थी।

इसलिए लाइसेंसी आइआरसीटीसी की इस अस्थाई व्यवस्था के बाद भी आगे आ रहे थे। इसी के तहत ही जनशताब्दी एक्सप्रेस की पेंट्रीकार चलाने का ठेका छह महीने के लिए दिया गया था। टेंडर हुए अभी दो महीने ही बामुश्किल गुजरे हैं पर कोरोना की वजह से ट्रेन में यात्री सफर ही नहीं कर रहे हैं। जबकि लाइसेंसी को प्रतिदिन पांच हजार रुपये से अधिक जमा करना है। अभी की स्थिति में इतनी रकम भी निकाल पाना संभव नहीं था।

इसलिए उसने पेंट्रीकार नहीं चलाने के लिए लिखित में जोनल स्टेशन स्थित आइआरसीटीसी कार्यालय में दिया। संपर्कक्रांति एक्सप्रेस की पेंट्रीकार के ठेके की अवधि दो पहले ही समाप्त हो गई। यही स्थिति छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस और दुर्ग- उधमपुर एक्सप्रेस ट्रेन की है। इस ट्रेन में ट्रेन साइड वेंडिंग के जरिए खानपान की सुविधा दी जाती थी। आइआरसीटीसी ने नए टेंडर के लिए अभी तक प्रक्रिया शुरू नहीं की है। ऐसे में इन ट्रेनों में जितने भी यात्री सफर कर रहे हैं, उन्हें खाने- पीने की चीजें नहीं मिलेंगी।