ब्रेकिंग
 गुजरात कांग्रेस प्रभारी रघु शर्मा की हार्दिक पटेल को पार्टी के अनुशासन में रहने की हिदायत रायपुरियंस आज सोच समझकर घर से बाहर निकले... नहीं तो बुरी तरह फंस सकते है ट्रैफिक में पेयजल संकटः सांसद साध्वी प्रज्ञा ने निगम कमिश्नर को लगाई फटकार, इधर नगरीय प्रशासन मंत्री ने किया ट्वीट- लिखा तत्काल जल आपूर्ति शुरू करें असम में लगातार बारिश से बाढ़ के हालात जनजीवन बुरी तरह प्रभावित Adani ग्रुप खरीदेगा अंबुजा सीमेंट्स और ACC लिमिटेड में Holcim India की हिस्सेदारी, 10.5 अरब डॉलर में हुई डील  सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की मैच्योरिटी से पहले निकासी पर कितना मिलेगा पैसा, RBI ने तय की दर बॉडी में एंट्री नहीं ले पाएगा गंदा कोलेस्ट्रॉल, बस इन टिप्स का रखें ध्यान सोमवार के दिन भाग्य में होगी वृद्धि या आर्थिक रूप से होगा नुकसान, पढ़ें, आज का अपना राशिफल शेयर बाजार में फिर गिरावट का दौर जारी मुख्यमंत्री चौहान संबल योजना के नये स्वरूप संबल 2.0 के पोर्टल का करेंगे शुभारंभ

मध्य प्रदेश में पथ विक्रेताओं को मिले एक-एक हजार, खाद्यान्न् भी निशुल्क मिलेगा

भोपाल। फुटपाथ या हाथ ठेले लगाकर रोजी-रोटी कमाने वाले 6.10 लाख शहरी पथ विक्रेताओं के खातों में शुक्रवार को शिवराज सरकार ने एक-एक हजार रुपये जमा करा दिए। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हितग्राहियों से कहा कि संकट की घड़ी में सरकार आपके साथ है। जैसे ही यह संकट खत्म होगा, मिलकर काम करेंगे। सभी को निशुल्क खाद्यान्न् भी उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने पथ विक्रेताओं से अपील करते हुए कहा कि संक्रमण की कड़ी तोड़ने के लिए कर्फ्यू का पालन करें। राशि निकालने के लिए बैंक में भीड़ न लगाएं। मुख्यमंत्री ने 61 करोड़ रुपये अंतरित करने के बाद वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पथ विक्रेताओं से संवाद करते हुए कहा कि जनता कर्फ्यू के परिणाम मिलने लगे हैं। सक्रिय प्रकरणों की संख्या घटने लगी है। अब प्रदेश सक्रिय प्रकरणों के मामलों में देश में 14वें स्थान पर आ गया है। पाजिटिव प्रकरण की वृद्धि दर 25 से घटकर 21 प्रतिशत हो गई है

12,400 नए प्रकरणों की तुलना 13,584 व्यक्ति स्वस्थ हुए हैं। आक्सीजन की आपूर्ति के लिए हवाई जहाज और ट्रेनों से व्यवस्था करने के साथ ही स्थानीय स्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं। संक्रमण की कड़ी को तोड़ने के लिए मिलना-जुलना, समारोह आयोजित करना, शादी विवाह के कार्यक्रम करना और भीड़ लगाना बंद करना होगा। यदि संक्रमण का प्रसार तेजी से होता रहा तो सारी व्यवस्थाएं ध्वस्त हो सकती हैं। कर्फ्यू से गरीबों को होने वाली दिक्कतों को दूर करने में सरकार कोई कसर नहीं छोड़ेगी। उन्होंने कहा कि जुकाम, खांसी और बुखार के लक्षणों पर तत्काल जांच कराएं और तुरंत दवा लेना शुरू कर दें।