ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

लंदन में जयशंकर व ब्लिंकन की मुलाकात आज, G-7 देशों के सभी विदेश मंत्रियों के साथ करेंगे बैठक

नई दिल्ली। भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर से सोमवार को अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन मुलाकात करेंगे। जयशंकर चार दिन के लिए ब्रिटेन में हैं। दरअसल वहां तीन दिनों के लिए 3 मई से 6 मई तक वे G-7 देशों के सभी विदेश मंत्रियों की बैठक होगी। G-7 के चेयरमैन के रूप में ब्रिटेन ने भारत, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के संगठन आसियान के महासचिव को भी बैठक में आमंत्रित किया है। बीते दो साल में G-7 के विदेश मंत्रियों की यह पहली बैठक है जिसमें सभी आमने-सामने मौजूद होंगे। अप्रैल 2019 में G-7 के विदेश मंत्रियों की बैठक फ्रांस में हुई थी।

ब्रिटेन रवाना होने से पहले जयशंकर ने रविवार को कतर के उप प्रधानमंत्री शेख मुहम्मद बिन अब्दुलरहमान अल थानी से फोन पर बात की। दोनों नेताओं के बीच कोरोना संक्रमण के हालात पर चर्चा हुई। इस दौरान जयशंकर ने भारत में कोरोना संक्रमण की मुश्किल के बीच कतर द्वारा ऑक्सीजन से संबंधित सामग्री भेजे जाने के लिए थानी से आभार जताया।

इन मुद्दों पर होगी चर्चा

G-7 की बैठक में मुख्य रूप से कोविड-19 महामारी से पैदा हालात से निपटने के तरीकों पर विचार किया जाएगा। इसके अलावा पर्यावरण में हो रहे बदलाव समेत उन मुद्दों पर भी चर्चा की जाएगी जिनसे दुनिया इस समय मुकाबिल है। ब्रिटिश विदेश मंत्री राब ने कहा है कि बैठक में रूस और चीन के दुष्प्रचार तथा पश्चिमी देशों के खिलाफ उनके रवैये पर भी चर्चा होगी। बीते दो साल में G-7 के विदेश मंत्रियों की यह पहली बैठक है जिसमें सभी आमने-सामने मौजूद होंगे। इससे पहले कोरोना संक्रमण के चलते उच्च स्तरीय बैठकें वर्चुअल बेसिस पर ही हुई हैं।

सबसे अमीर देशों का समूह G-7 

बता दें कि G-7 दुनिया के सबसे अधिक अमीर देशों का समूह है। G-7 के जो सदस्य देश बैठक में हिस्सा लेंगे, वे हैं- ब्रिटेन, अमेरिका, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली और जापान। भारत को उसमें अतिथि देश के रूप में आमंत्रित किया गया है। जयशंकर वहां  ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक राब और अन्य नेताओं के साथ द्विपक्षीय मसलों पर चर्चा करेंगे।