Jain
ब्रेकिंग
प्लॉट खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान, बढ़ेगी सकारात्मक ऊर्जा और होगा भरपूर लाभ कर्ज से मुक्ति के लिए आजमाएं वास्तु शास्त्र से जुड़े उपाय भगवान कृष्ण से सम्बंधित 13 खास मंदिर 14 घंटे रेस्क्यू चलने के बावजूद 17 लोगों को नहीं खोज सके; घाटों पर गोताखोर तैनात जहां सीएम मनाएंगे अमृत महोत्सव, वहां कलेक्टर-आईजी ट्रैक्टर से पहुंचे भाद्रपद माह में जन्माष्टमी और गणेश उत्सव जैसे कई बड़े त्योहार घर में इस जगह पर रखें फेंगशुई ड्रैगन, सकारात्मक ऊर्जा का होगा संचार और बरसेगा धन इन लॉकेट को पहनने के जानें फायदे और नुकसान, धारण करने के जानें नियम सुबह से खिली है तेज धूप; जुड़ने लगे हैं गंगा के घाट अंबाला कैंट के PWD रेस्ट हाउस में सुनेंगे शिकायतें

कार्यकर्ता बोले- कांग्रेस हर एक बेरोजगर युवा की है कर्जदार, सबको 1 लाख 12 हजार 500 रुपए दे

जगदलपुर: जगदलपुर में कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।छत्तीसगढ़ के जगदलपुर में भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने बढ़ती बेरोजगारी के खिलाफ SDM कार्यालय का घेराव किया है। कार्यकर्ताओं का कहना है कि, रोजगार के अभाव में छत्तीसगढ़ का हर एक युवा परेशान है। प्रदेश में बेरोजगारी दर लगातार बढ़ती जा रही है। युवाओं को रोजगार देने के साथ ही बरोजगारी भत्ता देने की मांग को लेकर कार्यकर्ता सड़क पर उतरे हैं। हालांकि, भाजपाइयों को रोकने के लिए पुलिस प्रशासन ने भी तगड़े इंतजाम कर रखे थे।युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष अविनाश श्रीवास्तव ने कहा कि, छत्तीसगढ़ की कांग्रेस अपने वादों से मुकर गई है। आज CG की कांग्रेस प्रदेश के हर एक बेरोजगार युवा की कर्जदार है। क्योंकि, उन्होंने अपने चुनावी वादों के अनुसार युवाओं को बेरोजगारी भत्ता नहीं दिया है। प्रति व्यक्ति 1 लाख 12 हजार 500 रुपए का कर्जा है। अविनाश ने कहा कि, यदि कांग्रेस युवाओं को रोजगार और बेरोजगारी भत्ता नहीं देती है तो हम कांग्रेस का पुरजोर विरोध करेंगे।रैली निकाल कर पहुंचे कार्यकर्ता।रैली भी निकालेजगदलपुर में कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस के विरोध में रैली भी निकाली। भाजपा कार्यालय से नारेबाजी करते हुए कार्यकर्ता SDM कार्यालय तक पहुंचे। वहीं यहां पहले से ही पुलिस बल को तैनात किया गया था। जैसे ही कार्यकर्ता SDM कार्यालय के पास पहुंचे तो कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रोक दिया। जिसके बाद कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच थोड़ी झुमाझटकी भी हुई। हालांकि, बाद में प्रशासन के अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा गया।