Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

सरकारी स्‍कूल में प्रवेश लेना चाहते हैं, निजी स्कूल नहीं दे रहे टीसी, अभिभावक व छात्र परेशान

भोपाल। मध्य प्रदेश के सरकारी स्कूलों में प्रवेश प्रक्रिया 15 जून से शुरू कर दी गई है। कोरोना काल में निजी स्‍कूल संचालकों द्वारा पूरी फीस वसूलने के कारण अनेक विद्यार्थी सरकारी स्कूलों में दाखिला लेना चाहते हैं, लेकिन निजी स्कूलों द्वारा स्थानांतरण प्रमाणपत्र (टीसी) नहीं देने के कारण परेशानी हो रही है। यहां तक कि उत्कृष्ट विद्यालय व मॉडल स्कूल के कक्षा नौवीं में प्रवेश के लिए भी अनेक विद्यार्थियों को अपने स्कूल से टीसी नहीं मिली है। इससे वे दाखिला आवेदन की प्रक्रिया को पूरी नहीं कर पा रहे हैं। इन स्कूलों में प्रवेश लेने के लिए आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों ने प्रवेश परीक्षा दी थी और मेरिट में भी आए हैं। अब अगर इन विद्यार्थियों को निजी स्कूलों से टीसी नहीं मिली तो उपरोक्‍त दोनों स्कूल में वे पढ़ने से वंचित रह जाएंगे। राजधानी के अन्य सरकारी स्कूलों में भी एडमिशन प्रक्रिया के दौरान विद्यार्थियों के बीच ऐसी समस्या सामने आ रही है। बता दें, कि सरकारी स्कूलों में 30 जून तक दाखिला होना है, ऐसे में बिना टीसी के सरकारी स्कूल प्रवेश नहीं दे रहे हैं।

विद्यार्थियों की बढ़ी परेशानी
शिवाजी नगर स्थित सरस्वती विद्या मंदिर की आठवीं पास छात्रा रेशमा पटेल ने उत्कृष्ट विद्यालय में कक्षा नौवीं में प्रवेश के लिए लिए परीक्षा पास कर ली है, लेकिन उसे स्कूल से टीसी नहीं मिल रही है। इस कारण छात्रा परेशान है। वहीं मॉडल स्कूल में कक्षा नौवीं में एडमिशन के लिए पहुंचे छात्र अनिकेत शर्मा को भी अपने स्कूल से टीसी नहीं मिल रहा है। उसने बताया कि वह इस स्कूल से आठवीं कक्षा तक पढ़ाई की है, लेकिन पिछले साल के कुछ माह का फीस बकाया है तो प्राचार्य उसे टीसी नहीं दे रहे हैं।
स्कूल के 50 फीसद से अधिक बच्चों की पिछले साल से फीस बकाया है। ऐसे में अगर बच्चे स्कूल छोड़ रहे हैं तो उन्हें बकाया फीस भरनी होगी। तभी टीसी मिलेगी।
-शिवराज सिंह चौधरी, प्राचार्य, सरस्वती विद्या मंदिर, शिवाजी नगर
इस साल निजी स्कूलों के बच्चे कक्षा नौवीं में एडमिशन के लिए अधिक आ रहे हैं, लेकिन उन्हें निजी स्कूलों से टीसी नहीं मिलने से उनका दाखिला नहीं हो पा रहा है। इस कारण वे परेशान हो रहे हैं।

-सुधाकर पाराशर, प्राचार्य, उत्कृष्ट विद्यालय