Jain
ब्रेकिंग
महू में दो गुटों में विवाद के बाद बम फोड़ा; 2 की मौत, 15 से ज्यादा घायल रोटी भी बदल सकती है किस्मत डीजीपी का सिल्वर मेडल भी आज लखनऊ में देंगे एडीजी जोन,खुशी की लहर देर शाम आई सभी के पास प्रशासन फोन कॉल, 30 स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों किया गया था आमंत्रित आजादी के अमृत महोत्सव के लिए रंग बिरंगी रोशनियों से सजा ग्वालियर दुगरी फेस-1 में हुआ हमला,अदालत में गवाही न देने के लिए हमलावर बना रहे थे दबाव भाजयुमो के मंत्री ने कार के सन रूफ से निकलकर झंडे की फोटो की थी पोस्ट 100 फूट ऊंचा लहरा रहा तिरंगा,लाइटों से जगमगाया शहर, दुल्हन की तरह सजी सड़कें रैली निकालकर लगाए भारत माता की जयकारे, बच्चों और ग्रामीणों ने किया समरसता भोज राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने किया ध्वजारोहण

श्रमिक संगठनों ने रोका नगरनार स्टील प्लांट का रास्ता, हड़ताल शुरू

जगदलपुर। नगरनार स्टील प्लांट के संचालन और रखरखाव की जिम्मेदारी लेने वाली सरकारी कंपनी मेकान लिमिटेड के अधिकारियों के स्टील प्लांट के दौरे के विरोध में श्रमिक संगठनों ने मंगलवार सुबह अचानक हड़ताल कर दी है। सुबह सात बजे से आल इंडिया एनएमडीसी वर्कर्स फ़ेडरेशन के स्थानीय श्रमिक नेता गेट के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं।

इनका कहना है कि नगरनार स्टील प्लांट की जल्दी कमीशनिंग करके विनिवेशीकरण करने की तैयारी की जा रही है। इसीलिए मेकान के निदेशक, सलाहकार की टीम स्टील प्लांट में कमीशनिंग की तैयारी देखने आ रही है। इधर, हड़ताल की सूचना पर स्टील प्लांट प्रबंधन ने श्रमिक नेताओं से चर्चा कर समझाने की कोशिश कि लेकिन श्रमिक अपने निर्णय पर अडिग हैं।

स्टील प्लांट के निदेशक प्रशांत दास का कहना है कि मेकान नगरनार स्टील प्लांट के निर्माण में सलाहकार कंपनी है। 10 साल से यह एनएमडीसी के साथ इस प्लांट में काम कर रही है। दोनों कंपनियों के अधिकारी आते-जाते रहते हैं। श्रमिक संगठनों को यह बात समझना चाहिए।

इधर, संयुक्त इस्पात मजदूर संघ नगरनार के सचिव का कहना है कि फेडरेशन स्टील प्लांट के डिमर्जर और विनिवेश का विरोध पांच सालों से कर रहा है। कमीशनिंग करके प्लांट को बेचने की योजना के तहत काम किया जा रहा है। एनएमडीसी प्रबंधन फेडरेशन को विश्वास में लिए बिना काम कर रहा है, जिसका श्रमिक विरोध करते हैं।

बता दें कि श्रमिक संगठनों का आरोप है कि नगरनार स्‍टील प्‍लांट को केंद्र सरकार बेचने की बात कर रही है। वहीं छत्‍तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल पहले ही घोषणा कर चुके हैं कि राज्‍य सरकार प्‍लांट को बचाएगी। राज्‍य सरकार इसे खुद खरीद सकती है।