Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

सिरफिरे ने 7 दिन पहले प्रतिमा से अपना सिर फोड़ा, अब पत्थर से मूर्ति का किया यह हाल

पोरसा। कस्बे के साधु सिंह चौराहा पर क्षेत्र के जननायक साधु सिंह तोमर की प्रतिमा से युवक का इतना रंज निकाला कि पहले उसने प्रतिमा पर चढ़कर अपने सिर से इसे तोड़ने का प्रयास किया था। इसके बाद गुरुवार को यही युवक हाथ में बड़ा सा पत्थर लेकर फिर से प्रतिमा पर चढ़ गया। इस बार उसने पत्थर मार-मारकर प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया। इस दौरान भीड़ भी जमा हो गई, लेकिन युवक के हाथ में पत्थर देखकर किसी की भी हिम्मत इसे नीचे उतारने की नहीं हुई। मौके पर पहुंची पुलिस ने इस पकड़ा और गिरफ्तार कर थाने ले गई। जहां मामला दर्ज किया जा रहा था।

उल्लेखनीय है कि कीचौल गांव निवासी रामू दर्जी नामक युवक ने गत 17 जून को साधू सिंह तोमर की प्रतिमा पर चढ़कर अपने सिर से इसे तोड़ने का प्रयास किया। इस दौरान मौजूद भीड़ में से एक युवक ने इसे नीचे उतारने के लिए कई बार डंडे मारे। इसके बाद वह नीचे आकर गिरा। तब इस दौरान सिर में चोट लगने से वह बेहोश हो गया। जिस पर घायल अवस्था में उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां होश आने के बाद अस्पताल से भाग गया।

गुरुवार को 7 दिन बाद रामू दर्जी फिर से आ गया और बड़ा सा पत्थर लेकर साधू सिंह तोमर की प्रतिमा पर चढ़ गया। इस बार उसने पत्थर से प्रतिमा पर कई प्रहार किए। जिससे प्रतिमा के सिर वाला भाग क्षतिग्रस्त हो गया। युवक को प्रतिमा पर चढ़ा देखकर यहां भीड़ जमा हो गई। लेकिन रामू के हाथ में बड़ा सा पत्थर होने की वजह से उसे नीचे उतारने की किसी ने हिम्मत नहीं जुटाई।

सैकड़ों की संख्या में यहां लोग जमा हो गए। जिस पर लोगों ने इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो भी बनाया। मौके पर पहुंची पुलिस ने इस युवक को जैसे तैसे नीचे उतारा। इसके बाद थाने ले जाया गया। प्रतिमा के क्षतिग्रस्त होने से लोगों में भी आक्रोश दिखाई दे रहा था।

थाने में युवक बोला-मुझे तो कोई ले जाता है प्रतिमा तक, मुझे नहीं पता कौन

युवक रामू दर्जी पेशे से फर्नीचर का काम करता है। जो सुबह भी फर्नीचर का काम करके ही आया था। बताया जाता है कि वह नशा भी करता है। पुलिस उसे गिरफ्तार कर थाने ले गई तो पूछताछ की कि वह क्यों बार-बार प्रतिमा पर चढ़ जाता है और इसे क्षतिग्रस्त क्यों किया। जिसके जवाब में उसने उसने कहा कि मुझे नहीं पता, मुझे तो कोई ले जाता है प्रतिमा तक। मुझे इसका पता नहीं चलता। वहीं जब 17 जून को प्रतिमा पर चढ़ा तब कह रहा था कि इस प्रतिमा की जगह उसकी प्रतिमा लगनी चाहिए।

साधु सिंह तोमर के पुत्र ने कराया मामला दर्ज

प्रतिमा के क्षतिग्रस्त करने के मामले में पुलिस ने साधु सिंह तोमर के पुत्र मोहन सिंह तोमर की फरियाद पर रामू दर्जी के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध किया गया है। एफआइआर में बताया गया है कि स्वतंत्रता संग्राम सैनानी साध्ु सिंह तोमर की प्रतिमा की स्थापना शासन द्वारा कराई गई थी। जिसे रामू दर्जी नामक युवक ने चढ़कर तोड़ दिया। प्रतिमा के सिर वाले हिस्से से यह क्षतिग्रस्त हुई है। पुलिस ने इस मामले में 295-ए तथा सार्वजनिक संपत्ति नुकसान निवारण् अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है।