Jain
ब्रेकिंग
महू में दो गुटों में विवाद के बाद बम फोड़ा; 2 की मौत, 15 से ज्यादा घायल रोटी भी बदल सकती है किस्मत डीजीपी का सिल्वर मेडल भी आज लखनऊ में देंगे एडीजी जोन,खुशी की लहर देर शाम आई सभी के पास प्रशासन फोन कॉल, 30 स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों किया गया था आमंत्रित आजादी के अमृत महोत्सव के लिए रंग बिरंगी रोशनियों से सजा ग्वालियर दुगरी फेस-1 में हुआ हमला,अदालत में गवाही न देने के लिए हमलावर बना रहे थे दबाव भाजयुमो के मंत्री ने कार के सन रूफ से निकलकर झंडे की फोटो की थी पोस्ट 100 फूट ऊंचा लहरा रहा तिरंगा,लाइटों से जगमगाया शहर, दुल्हन की तरह सजी सड़कें रैली निकालकर लगाए भारत माता की जयकारे, बच्चों और ग्रामीणों ने किया समरसता भोज राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने किया ध्वजारोहण

हाई कोर्ट ने इंदौर कलेक्टर की निंदा की, कहा गुणदोष पर विचार करे बगैर कॉपी-पेस्ट कर जारी हो रहे हैं आदेश

इंदौर। इंदौर कलेक्टर द्वारा दो सगे भाइयों के खिलाफ रासुका के तहत जारी आदेश को निरस्त करते हुए हाई कोर्ट ने इंदौर कलेक्टर की निंदा की है। कोर्ट ने कहा कि गुणदोष पर विचार किए बगैर कलेक्टर ने किसी दूसरे व्यक्ति के खिलाफ दर्ज एफआइआर को जस का तस कॉपी-पेस्ट कर आदेश जारी कर दिया। इस तरह से कॉपी पेस्ट कर आदेश जारी करने से आम आदमी को संविधान द्वारा प्रदत्त अधिकारों का हनन हो रहा है।

पुलिस थाना राजेंद्र नगर ने 18 अप्रैल 2021 को कांटाफोड़ जिला देवास निवासी मेडिकल रिप्रजेंटेटिव शुभम परमार और उसके भाई डॉ. भूपेंद्र परमार के खिलाफ नकली रेमडेसीविर इंजेक्शन के मामले में केस दर्ज करते हुए दोनों को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने इसी दिन निलेश चौहान नामक एक अन्य व्यक्ति के खिलाफ भी नकली रेमडेसीविर इंजेक्शन के मामले में कायमी की थी। एसपी द्वारा प्रेषित प्रतिवेदन के आधार पर कलेक्टर ने निलेश के खिलाफ रासुका के तहत आदेश जारी कर दिया। 20 अप्रैल को कलेक्टर इंदौर ने शुभम और भूपेंद्र के खिलाफ भी रासुका के तहत ऐसा ही एक अन्य आदेश जारी कर दिया। दोनों भाई तब से ही जेल में हैं।

उन्होंने कलेक्टर के आदेश को चुनौती देते हुए एडवोकेट ऋषि तिवारी के माध्यम से हाई कोर्ट में दो अलग-अलग याचिका दायर की। एडवोकेट तिवारी ने कोर्ट को बताया कि कलेक्टर ने बगैर गुणदोष पर विचार करे रासुका के तहत आदेश जारी किया है। शुभम और भूपेंद्र के खिलाफ जारी आदेश में जो तथ्य दिए हैं उनका उनसे कोई लेना देना नहीं है।

दरअसल कलेक्टर ने निलेश के खिलाफ जारी आदेश में टंकित तथ्यों को जस का तस कॉपी पेस्ट कर आदेश जारी किया है। गुणदोष पर विचार करने के बजाय पहले किसी मामले में जारी आदेश को कॉपी पेस्ट किया गया है। गुरुवार को जस्टिस सुजाय पाल और जस्टिस शैलेंद्र शुक्ला की युगलपीठ ने 13 पेज का आदेश जारी करते हुए कलेक्टर द्वारा 20 अप्रैल 2021 को रासुका के तहत जारी आदेश को निरस्त कर दिया।