ब्रेकिंग
Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

गो सेवा के साथ बीमार व घायल पशुओं का रक्षक है नीरज

बिलासपुर। हिंदू समाज में गो सेवा का बड़ा महत्व है। पशु पक्षियों के प्रति उदारता,प्रेम और उनकी रक्षा को सर्वोपरि माना गया है। न्यायधानी के युवा और मार्मिक चेतना मंच के प्रमुख सदस्य नीरज गेमनानी ने गो सेवा व पशुओं की रक्षा करने में मिसाल कायम किया है। समाज में उनके इस कार्यों को लेकर सराहना भी की जा रही है

नीरज प्रतिदिन अपने घर से सौ रोटी लेकर न्यायधानी की सड़कों पर निकलता है।

भूखे गायों को रोटी खिलाने के बाद कुत्तों को बिस्किट खिलाने के साथ बीमार व घायलों की इलाज के लिए दौड़ पड़ता है। हाल ही में नीरज ने रात में सड़क दुर्घटनों को रोकने मवेशियों के गले में रेडियम भी बांधाने अभियान चलाया है। जिसे लेकर नगर निगम, यातायात और पुलिस विभाग ने भी सराहना किया है। गो सेवा के लिए पुलिस विभाग द्वारा प्रमाण पत्र प्रदान कर सम्मानित भी किया जा चुका है।

मंगलवार दोपहर को भी नीरज ने बस स्टैंड में एक भूख से तड़पती हुई गाय के लिए रोटी और चारे की व्यवस्था किया। नीरज का कहना है कि भारतीय संस्कृति में गाय को माता का दर्जा दिया गया है। मान्यता है कि गाय के शरीर में 33 कोटि देवी देवताओं का वास है। गाय को रोटी खिलाना बहुत ही शुभ होता है। हम सभी को प्रतिदिन इसी बहाने गाय को रोटी खिलाना चाहिए।

लाकडाउन से जारी है सेवा

नीरज का यह सेवा कार्य वर्ष 2020 लाकडाउन से जारी है। विगत 16 दिनों से रोटी की संख्या 100 कर दिया गया है। पर्यावरण संरक्षण की दिशा में भी भी अहम योगदान है। सरकंडा समेत कई क्षेत्रों में 2000 से अधिक पौधरोपण किया गया है।