ब्रेकिंग
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज गांधी जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना 'महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना' के शुभारंभ महिला श्रमिक की मौत पर की खबर के बाद जागे परिवहन विभाग और ट्रैफिक पुलिस, नामली थाना क्षेत्र में की कार्रवाई AIIMS : ड्यूटी के दौरान मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर बैन अब तक 7 के शव बरामद, आईएएफ ने 2 चीता हेलीकॉप्टर किए तैनात, 8 लोगों का सफल रेस्क्यू क्या Pavitra Punia- Ejaz Khan ने  कर ली सगाई? दशहरे के दिन ही खुलता है रावण के इस मंदिर का द्वार खुद स्टार्ट किया पम्पिंग सेट, कहा- पशुओं में दूध की होती है वृद्धि हटाए गए कर्मियों को नौकरी देने की मांग, 19-20 को करेंगे भूख हड़ताल रेलवे स्टेशन पर रेलकर्मी को बदमाशों ने पीट-पीट कर किया घायल, की लूटपाट मिनी सचिवालय तक निकाला रोष मार्च, डीसी को केंद्र सरकार के लिए सौंपा ज्ञापन

एयरपोर्ट में जांच के दौरान साध्वी के बैग से निकले नरकंकाल, फिर हुआ चौंकाने वाला खुलासा

इंदौर: इंदौर के देवी अहिल्याबाई होलकर एयरपोर्ट पर सोमवार को एक साध्वी के बैग से मानव खोपड़ी और हड्डियां मिलने से सनसनी फैल गई। बैग की स्कैनिंग में यह सामान दिखते ही तत्काल पुलिस को इसकी सूचना दी गई। जांच पड़ताल में पता चला कि साध्वी अपने गुरु की अस्थियों को विसर्जित करने हरिद्वार ले जा रही थी। लेकिन अनुमति नहीं होने के चलते साध्वी को दिल्ली जाने दिया गया। वहीं अस्थियां और मानव खोपड़ी को वापिस कर दोनों को दिल्ली फ्लाइट से जाने दिया गया।

मामला इंदौर के देवी अहिल्याबाई होलकर अंतराष्ट्रीय एयरपोर्ट का है। सोमवार को जांच में साध्वी योगमाता के सामान में अस्थियों के साथ मानव खोपड़ी मिली। धार्मिक नगरी उज्जैन के एक आश्रम की साध्वी योगमाता दिल्ली की एक उड़ान में सवार होने के लिए एयरपोर्ट पहुंची थीं। यात्रियों के लिए तय प्रक्रिया के तहत एयरपोर्ट पर जब साध्वी के सामान की जांच की गई, तो सुरक्षा अधिकारियों को इसमें संदेहास्पद चीज दिखाई दी। सुरक्षाकर्मियों ने सामान खुलवा कर देखा तो उसमें मानव खोपड़ी मिली।

एरोड्रम थाना प्रभारी राहुल शर्मा ने बताया कि इस बात की सूचना पुलिस को मिली है। पुलिस को साध्वी ने बताया कि मानव खोपड़ी उनके दिवंगत गुरु की है, और वह उनकी अस्थियों के साथ इसे विसर्जित करने हरिद्वार ले जा रही थीं। यात्रियों को इस तरह का सामान ले जाने के लिए पहले से अनुमति लेनी होती है। साध्वी ने यह अनुमति नहीं ली थी। अनुमति के अभाव के चलते साध्वी को इसके साथ हवाई सफर की इजाजत नहीं दी गई और बयान दर्ज किए जाने के बाद उन्हें छोड़ दिया गया। बाद में साध्वी ने कहा कि उनका दिल्ली जाना जरूरी है तो अधिकारियों ने उन्हें खोपड़ी और अस्थियां अपने परिचित को बुला कर दे दी। जिसे वह सड़क के रास्ते वापिस लेकर रवाना हो गए, इस प्रक्रिया में इतना समय लग गया कि वे अपने फ्लाइट के लिए लेट हो गईं। एयरलाइंस ने उन्हें रात की फ्लाइट का टिकट दिया, तब वे रवाना हुईं ।