ब्रेकिंग
Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

सीएम शिवराज ने भोपाल में किया गारमेंट्स परियोजना की इकाइ का भूमिपूजन

भोपाल। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल के अचारपुरा औद्योगिक क्षेत्र में प्रस्तावित गारमेंट्स परियोजना की इकाइ का भूमिपूजन किया। इस दौरान मंत्री विश्वास सारंग और मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव भी मौजूद रहे। सीएम शिवराज ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि गोकलदास एक्सपोर्टस ऐसी रेडीमेंट गारमेंट्स की कंपनी है जिसके उत्पाद का अधिकांश हिस्सा दुनिया के अलग-अलग देशों में एक्सपोर्ट होता है। यह अत्यंत प्रसन्नता का विषय है कि ऐसी कंपनी मध्य प्रदेश में निवेश कर रही है। 110 करोड़ के निवेश के माध्यम से 4 हजार स्थानीय लोगों को रोजगार को लोगों मिलेगा। इसमें तीन चौथाई से अधिक महिलाएं होंगी। कोरोना काल में ही हमने लगभग 384 औद्योगिक इकाइयों को 840 एकड़ भूमि आवंटित की है और 22 हजार लोगों को रोजगार प्रदान करने का काम किया है। औद्योगिक इकाइयों की संख्या में 48 प्रतिशत की वृद्धि, भूमि आवंटन में 32 प्रतिशत की वृद्धि, पूंजी निवेश में 63 प्रतिशत और रोजगार सृजन में 38 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

सीएम ने कहा कि हमारा संकल्प है रोजगार, रोजगार और रोजगार है। इज आफ डूइंग बिजनेस में हम लंबी छलांग लगाकर चौथे नंबर पर पहुंचे हैं। उद्योगों को आवश्यक सुविधाएं प्रदान कराना हमारा धर्म हैं। इसलिए हमनें ‘स्टार्ट योर बिजनेस इन 30 डेज’ जैसे कार्यक्रम प्रारंभ किए हैं। 30 दिन में हम आपको उद्योग लगाने सभी क्लीयरेंस प्रदान कर देंगे। श्रम आधारित उद्योगों को भी हम व्यापक पैमाने पर लाने का कार्य कर रहे हैं। एक जिला-एक उत्पाद योजना के तहत हमने लगभग 64 विशिष्ट उत्पादों का चयन किया है। उनकी भी प्रोसेसिंग का काम हम मध्यप्रदेश की धरती पर करेंगे।

सीएम ने कहा, अटल प्रोग्रेस वे और नर्मदा एक्सप्रेस वे बनाकर इसके दोनों तरफ औद्योगिक क्लस्टर विकसित करके हम कई इंडस्ट्रीज लाकर भावी रोजगार के अवसर सृजित करने का काम करेंगे। ताकि रोजगार के अवसर बढ़ा सकें। हम फर्नीचर, खिलौना, टैक्सटाइल, फूड प्रोसेसिंग, एग्रीकल्चर, इलेक्ट्रिकल जैसे 13 क्लस्टर विकसित करने का कार्य कर रहे हैं। मुझे प्रसन्नता है कि आज औद्योगिक पार्क अचारपुर में टैक्सटाइल पार्क और नर्मदा जलप्रदाय पाइप योजना का भी लोकार्पण किया है। मैं सभी उद्योगपतियों से आह्वान करता हूं कि मध्य प्रदेश निवेश के लिए सर्वाधिक उपयुक्त धरती है। आपके पास उद्यम करने की इच्छा है तो सरकार के पास आपके सपने को पूरा करने की शक्ति है। आपकी इच्छा और हमारी शक्ति एक नई इच्छाशक्ति को जन्म देगी और हम साथ मिलक आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश बनाएं।

गोकलदास एक्सपोर्टस द्वारा प्रस्तावित यह इकाई 10 एकड़ भूमि पर बनेगी। कंपनी द्वारा 110 करोड़ का पूंजी निवेश किया जाएगा, जिसमें 4 हजार से अधिक स्थानीय व्यक्तियों को रोज़गार उपलब्ध हो सकेगा। साथ ही प्लांट में तीन चौथाई से अधिक महिलाएं कार्य करेंगी। सोमवार को औद्योगिक क्षेत्र में उद्योगों को 16 करोड़ 81 लाख रुपये की लागत से नर्मदा जल प्रदाय पाइप लाइन योजना का लोकार्पण हुआ जिससे लगभग 300 इकाइयों को प्रतिदिन 3 एमएलडी जल प्रदाय किया सकेगा। अचारपुरा औद्योगिक क्षेत्र 146 हेक्टेयर भूमि पर विकसित है। टेक्सटाइल पार्क, अचारपुरा में 154 भूखण्ड है। जिनमें उद्योग स्थापना उपरांत 800 करोड़ पूंजी निवेश की संभावनाएं हैं।

इज आफ डूइंग बिजनेस में मध्य प्रदेश देश में चौथे स्थान पर

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा कि इज आफ डूइंज बिजनेस अंतर्गत ऊंची छलांग लगाते हुए मध्य प्रदेश देश में चौथे स्थान पर पहुंच गया है। पिछले 17 माह में कोरोना महामारी के बावजूद मध्य प्रदेश में 384 इकाइयों को कुल 840 एकड़ भूमि आवंटित की गई है। जिसमें 11 हजार करोड़ पूंजी निवेश एवं 22 हजार व्यक्तियों को रोजगार मिलेगा। कोरोना की विषम परिस्थितियों के बाद भी मध्य प्रदेश में उद्योगों का जाल बिछाने में हम सफल हुए हैं। हमने औद्योगिक नीति को सरल और सहज बनाया है ताकि उद्योगपतियों को प्रदेश में उद्योग स्थापित करने में कठिनाई न हो और प्रदेश के युवाओं के लिए भी रोजगार के अधिक अवसर सृजित हों।