ब्रेकिंग
मथुरा पुलिस के हाथ लगे संदिग्ध के फोटो, चोरों की तलाश में जुटी पुलिस इलेक्शन मोड में काग्रेस, इसलिए 'दागियों' पर अभी नो एक्शन डॉक्टरी-इंजीनियरिंग की पढ़ाई के साथ विद्यार्थियों को स्टार्टअप के लिए भी सहयोग की व्यवस्था – मुख्यमंत्री चौहान अलवर पुलिस ने जीरो FIR दर्ज कर रेवाड़ी भेजी; महिला पर संगीन आरोप AAP सुप्रीमो ने ट्वीट लिखा- गुजरात का सह प्रभारी बनने के बाद AAP सांसद केंद्र के टारगेट पर टिफ़िन सर्विस का बिज़नेस कैसे शुरू करें | How to Setup Tiffin Service centre in hindi छत्तीसगढ़ के स्टार्टअप ईको सिस्टम को देखने जल्द आयेगा ऑस्ट्रिया का दल एंबुलेंस में पकड़े गए 25 करोड़ के फर्जी नोट नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. डहरिया ने नगर पंचायत समोदा को प्रदान की एम्बुलेंस गैंगस्टर जग्गू भगवानपुरिया के करीबियों को मारने की बना रहे थे प्लानिंग, 4 पिस्टल रिकवर

शिवसेना का बीजेपी पर तंज, ‘PM मोदी के मन में जो है, वो जेपी नड्डा के जरिए करवाया जा रहा है’

मुंबई- शिवसेना ने अपने मुख्यपत्र सामना के जरिए एक बार फिर से बीजेपी को आड़े हाथों लिया है। सामना में छपे लेख में कहा गया है कि जेपी नड्डा को बीजेपी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने के बाद से पार्टी में लगातार बदलाव देखने को मिल रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी के मन में जो है, वो जेपी नड्डा के जरिए करवाया जा रहा है
लेख के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी के मन में जो है, वो जेपी नड्डा के जरिए करवाया जा रहा है। नड्डा के ही जरिए उत्तराखंड व कर्नाटक के मुख्यमंत्री बदले गए। गुजरात का मुख्यमंत्री भी एक झटके में बदल दिया गया। वहां तो पूरे मंत्रिमंडल का नवीनीकरण कर दिया गया।

मोदी-नड्डा ने ऐसा झटका दिया कि राजनीति में कुछ भी असंभव नहीं
सामना में छपे लेख के मुताबिक, मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल पहली बार ही विधायक बनने वाले नेता हैं, लेकिन अब मोदी-नड्डा ने ऐसा झटका दिया है कि राजनीति में कुछ भी असंभव नहीं है। रुपाणी के मंत्रिमंडल में शामिल सभी मंत्रियों को मोदी व नड्डा ने घर बैठा दिया है, जिन 24 मंत्रियों ने शपथ ली है, वे सभी पहली ही बार मंत्री बने हैं।

नितिन पटेल सहित सभी पुराने-प्रसिद्ध लोगों को निकालकर मोदी व नड्डा ने गुजरात में नया दांव रचा है।  रुपाणी के पीछे अमित शाह का समर्थन था, लेकिन उनके पूरे मंत्रिमंडल को घर का रास्ता दिखाकर मोदी-नड्डा की जोड़ी ने एक जोरदार राजनीतिक संदेश अपनी पार्टी को दिया है।

नितिन पटेल खुद को ‘हैवी वेट’ समझते थे। नितिन पटेल मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार थे. अब रुपाणी को किनारे कर दिया गया तब भी वही मुख्यमंत्री पद के दावेदार थे।