ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी ट्रक चोरी करने वाले 06 आरोपियो को किया गया गिरफ्तार, मंडी के पास लिंक रोड के किनारे खड़ी ट्रक को किया था चोरी, उड़ीसा से हुई बरामद रायपुर में शिवमहापुराण कथा:पंडित प्रदीप मिश्रा का प्रवचन सुनने लाखों लोग पहुंचे , अनुमान से अधिक लोगों के पहुंचने के कारण पंडित जी को कहना पड़ा घर में...

तृणमूल ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर की केंद्रीय जांच एजेंसियों की शिकायत

कोलकाता। तृणमूल कांग्रेस ने चुनाव आयोग से केंद्रीय जांच एजेंसियों की शिकायत करते हुए कहा कि वे चुनाव के वक्त जान-बूझकर पार्टी नेताओं, उम्मीदवारों व प्रवक्ताओं को परेशान कर रही है। तृणमूल के राज्यसभा सदस्य डेरेक ओ ब्रायन ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर कहा है कि केंद्रीय जांच एजेंसियां पार्टी नेताओं, उम्मीदवारों व प्रवक्ताओं को इस समय ऐसे मामलों में समन जारी कर रही है, जो कम से कम पिछले पांच वर्षों से लंबित हैं जबकि उन्हीं मामलों में समान रूप से आरोपित भाजपा नेताओं, उम्मीदवारों व प्रवक्ताओं को समन जारी नहीं किया जा रहा। इससे साफ है कि केंद्र की सत्ता पर आसीन पार्टी केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है।

तृणमूल के बारे में गलत धारणा पैदा की जा रही है ताकि राज्य के मतदाताओं को प्रभावित किया जा सके। पुलिस समेत पूरी स्टेट मशीनरी इस समय चुनाव आयोग के नियंत्रण में है। यह जरूरी है कि वह सीबीआइ, ईडी, एनआइए, आइटी इत्यादि केंद्रीय एजेंसियों को चुनाव की अवधि तक पक्षपातपूर्ण व कड़ी कार्रवाई करने से मना करे।

डेरेक ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, केंद्रीय सड़क व परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व अन्य भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री एवं अन्य नेता, जो बंगाल में भाजपा के स्टार प्रचारक हैं, चुनाव प्रचार में अपने सरकारी ओहदे का दुरुपयोग कर रहे हैं। तृणमूल ने हमेशा निष्पक्ष प्रशासन का समर्थन किया है और स्वंतत्र व निष्पक्ष तरीके से चुनाव के पक्ष में हैं।

उत्तर प्रदेश से राज्य सशस्त्र पुलिस बंगाल भेजने पर जताई आपत्ति

डेरेक ने आगे कहा कि उनकी पार्टी की जानकारी में यह बात आई है कि चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश से राज्य सशस्त्र पुलिस की 30 कंपनियां चुनावी ड्यूटी के लिए बंगाल भेजने का निर्देश दिया है। तृणमूल को उत्तर प्रदेश से राज्य सशस्त्र पुलिस बंगाल भेजे जाने पर कड़ी आपत्ति है क्योंकि वहां भाजपा की सरकार है और वहां के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भाजपा के स्टार प्रचारक हैं। इससे चुनाव की निष्पक्षता पर सवाल उठ सकता है क्योंकि वे पक्षपाती हो सकते हैं। गैर-भाजपा शासित राज्यों से सशस्त्र पुलिस बंगाल भेजने पर तृणमूल को कोई आपत्ति नहीं है।