ब्रेकिंग
एक महीने में हुए चार 'दुराचारी सभा' में पहुंचे सिर्फ 844 हिस्ट्रीशीटर,दरी पर बैठना उन्हें नहीं पसंद बोले- 5 साल से कर रहा था तैयारी, अब बना राजस्थान का टॉपर गुरु अमरदास एवेन्यू के निवासियों ने ब्लॉक किया जीटी रोड, MLA के खिलाफ प्रदर्शन भूप्रेंद्र सिंह हुड्‌डा ने कहा गांधीवादी तरीके से करेंगे विरोध, सरकार रद्द करके अग्निपथ फर्जी दस्तावेज तैयार कर कब्जाई थी जमीनें, पुलिस की गिरेबान पर हाथ डालने के बाद आया था चर्चा में सनी नागपाल भुवनेश्वर कुमार तोड़ेंगे पाकिस्तानी गेंदबाज का रिकॉर्ड डेब्यू मैच में फ्लॉप रहे उमरान मलिक घर में रखा फ्रिज सिर्फ उपकरण नहीं, है वास्तु शास्त्र की रहस्मयी व्याकरण... इस दिशा में रखने से चमक जाता है भाग्य पंचायत के प्रथम चरण के चुनावों के बाद EVM का हुआ रेंडमाइजेशन  जी-7 समिट में हिस्सा लेने जर्मनी पहुंचे पीएम मोदी, प्रवासी भारतीयों ने गर्मजोशी से किया स्वागत

बीजापुर में हुए नक्सली हमले में सागर के परसोरिया का जवान घायल

सागर। छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के तर्रेम थाना क्षेत्र के टेकलगुड़ा के जंगल में शनिवार को नक्सलियों से हुई मुठभेड़ में सागर जिले के परसोरिया गांव का जवान आविद पिता अब्दुल खान भी घायल हुए हैं। आविद का इलाज रायपुर में चल रहा है। आविद के पिता अब्दुल क कहना है, उन्हें टीवी के माध्यम से नक्सली हमले की जानकारी मिली थी। तभी से वे बेटे को मोबाइल लगा रहे थे। रविवार शाम को उससे बात हुई। उन्होंने बताया कि उनका बेटा आविद कोबरा 210 बटालियन में पदस्थ है। उसकी पोस्टिंग छग के बीजापुर में हुई है। बेटे ने बताया कि नक्सलियों से हुई मुठभेड़ में वह घायल हो गया है। उसके बहुत से साथी शहीद हो गए। उसे उपचार के लिए रायुपर लाया गया है। अब्दुल सहित उनके पूरा परिवार ने इस मुठभेड़ में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि दी है। उन्होंने कहा कि मुझे अपने बेटे पर गर्व है, जो सीआरपीएफ के माध्यम से देश की सेवा कर रहा है।

गांववालों ने की शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना

परसोरिया गांव में लोग भी आविद के नक्सली हमले में घायल होने के बाद उसके शीघ्र स्वस्थ्य होने की प्रार्थना कर रहे हैं। गांव के सभी जाति व वर्ग के लोगों का कहना है कि उन्हें गर्व है कि उसके गांव के बेटे ने नक्सली हमले का डटकर सामना किया। वह शीघ्र ही स्वस्थ होगा।

गौरतलब है कि शुक्रवार को बीजापुर और सुकमा जिले के विभिन्न कैंपों से सीआरपीएफ, कोबरा, डीआरजी व एसटीएफ के 2056 जवानों को बीजापुर और सुकमा के सरहदी जंगल में नक्सलियों की तलाश में उतारा गया था। शनिवार को जब जवान लौट रहे थे, तभी एक टुकड़ी को नक्सलियों ने टेकलगुड़ा गांव के पास एंबुश में फंसा लिया। टेकलगुड़ा गांव एक ओर पहाड़ और तीन ओर से जंगल से घिरा है। मौके पर करीब छह घंटे तक रुक-रुककर फायरिग हुई। नक्सलियों ने यू आकार में एक किमी के दायरे में तीन जगह एंबुश लगा रखा था। एक ओर पहाड़ी से तो दूसरी ओर गांव से नक्सली फायरिग कर रहे थे। जवान पोजीशन लेते इससे पहले ही पीछे से भी फायरिंग होने लगी। इन जवानों को हिड़मा के इस इलाके में सर्च आपरेशन पर भेजा गया था, पर नक्सली जाल बिछाकर बैठे थे। जिन्होंने रात 11.30 बजे फायरिंग कर दी थी। इसमें बड़ी संख्या में जवान शहीद हुए। इनमें परसोरिया का आविद जख्मी है।