ब्रेकिंग
गर्मी के चलते वेस्टर्न रेलवे ने 12 एसी लोकल ट्रेनें शुरू की, जानें कहां से कहां तक हैं ये ट्रेन पुलिस की सराहनीय पहल, प्रतिभावान छात्राओं के घर-घर जाकर किया सम्मानित, बच्चों ने आईएएस, डाॅक्टर व सीए बनने की जताई ईच्छा MP में तालों में कैद भगवान! MLA आकाश विजयवर्गीय बोले- जल्द खुलेगा बोलिया सरकार छत्री का शिव मंदिर एलपीजी गैस सिलेंडर पर लेना चाहते हैं सब्सिडी, फॉलो करें यह आसान प्रोसेस सूरज की तपिश से बादलाें ने दिलाई राहत बोरिंग माफियाओं की मनमानी से इंदौर में गहराया जल संकट नहीं रोक लगा पा रहा नगर निगम, आज भी रोजाना हो रहे 20-25 अवैध बोरिंग चीनी विमान जानबूझकर नीचे लाकर क्रैश कराया गया था श्रीराम सेना का दावा- कर्नाटक में 500 अवैध चर्च ग्राम देवादा में जल सभा का आयोजन एक ही परिवार के 3 लोगों के मर्डर का खुलासा, परिजन ही निकले हत्यारे, ये बनी हत्या की वजह

बिलासपुर की बेलसिया बाई के जज्बे को सलाम, 82 की उम्र में लगवाया टीका

बिलासपुर।  कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम के तहत नूतन चौक स्थित आयुर्वेद चिकित्सालय में 82 वर्षीय बेलसिया बाई ने कोरोना वैक्सीनेशन करवाया। उन्होंने स्वयं अस्पताल आकर टीकाकरण केंद्र में कहा कि मुझे कोरोना से बचाव का टीका लगवाना है। उनके इस जज्बे की सभी ने सराहना की।

टीका लगवाने के बाद उन्होंने कहा कि अब मैं सुरक्षित महसूस कर रही हूं। इसी प्रकार लाल बहादुर शास्त्री स्कूल टीकाकरण केंद्र में भी 45 वर्ष से अधिक आयु के नागरिकों ने उत्साह के साथ टीका लगवाया। 58 वर्षीय नीता साहू ने कहा कि उन्हें मुनादी के माध्यम से टीकाकरण की जानकारी मिली। इसके बाद शुक्रवार को पहला डोज लगवाया है। निर्धारित समय के बाद दूसरा डोज भी लगवाऊंगी। 45 वर्षीय मोहिनी साहू ने भी कोविड का टीका लगवाने के बाद कहा कि सभी लोगों को टीका जरूर लगवाना चाहिए।

जागरूकता से रुकेगा संक्रमण

कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मास्क लगाने, भीड़ से बचने की जरूरत है। लोगों में यह धारणा है कि कोरोना की वैक्सीन आ गई है और अब मास्क लगाने की आवश्यकता नहीं है। लेकिन, यह गलत धारणा है। विशेषज्ञों के अनुसार वैक्सीन लगवाने के बाद भी संक्रमण से बचने के लिए मास्क लगाना, सुरक्षित दूरी रखना आवश्यक है।

इसलिए सभी को अपनी मनोस्थिति बदलनी होगी और समझदारी से मास्क लगाकर ही घर से बाहर निकलना चाहिए। 60 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों और ऐसे व्यक्ति जिन्हंे दूसरी गंभीर बीमारी है उन्हें विशेष ध्यान देने की जरूरत है। लक्षण दिखने के 24 घंटे के अंदर ही कोरोना की जांच करवाकर इलाज शुरू कराना चाहिए, जिससे रिकवरी की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।