Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

विश्‍व में सबसे तेज 10 करोड़ कोविड वैक्‍सीन लगाने वाला देश बना भारत, 85 दिनों में हासिल किया मुकाम

नई दिल्‍ली। दुनिया में भारत सबसे तेजी से 10 करोड़ टीके लगाने वाला देश बन गया है। कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान के 85वें दिन शनिवार को भारत ने यह मुकाम हासिल किया। इतने टीके लगाने में अमेरिका को 89 और चीन को 102 दिन लगे थे। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी। मंत्रालय के मुताबिक रोजाना लगाए जाने वाले टीकों के मामले में भी भारत शीर्ष पर बना हुआ है।

रोज 38,93,288 टीके लगाए जा रहे

भारत में प्रतिदिन औसतन 38,93,288 टीके लगाए जा रहे हैं, दूसरे नंबर पर अमेरिका है जहां वैक्सीन की रोजाना औसतन 30 करोड़ डोज दी जा रही है। मंत्रालय ने बताया कि अमेरिका में 85 दिनों में 9.2 करोड़ टीके लगाए गए थे जबकि इतने दिनों में चीन में 6.14 करोड़ और ब्रिटेन में 2.13 करोड़ वैक्सीन की डोज ही लाभार्थियों को दी गई थीं।

भारत में सबसे तेज गति से टीकाकरण 

प्रधानमंत्री कार्यालय ने भी एक चार्ट ट्वीट किया, जिसमें भारत को सबसे तेज गति से 10 करोड़ टीका लगाने वाले देश के रूप में दिखाया गया है। साथ ही कहा गया है कि यह भारत को स्वस्थ और कोरोना मुक्त बनाने के लिए किए जा रहे प्रयासों को मजबूत कर रहा है।

आठ राज्यों में 60.62 फीसद टीकाकरण 

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक अब तक 45 साल से अधिक उम्र के लगभग छह करोड़ लोगों को टीका लगाया जा चुका है। अब तक लगाए गए टीकों में से 60.62 फीसद टीके केवल आठ राज्यों में ही लगाए गए हैं। ये राज्य हैं-महाराष्ट्र, राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश, बंगाल, कर्नाटक, मध्य प्रदेश और केरल।

16 जनवरी को शुरू हुआ था अभियान 

बता दें कि देश में कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान 16 जनवरी को शुरू हुआ था। सबसे पहले स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाना शुरू किया गया। दो फरवरी से फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण शुरू हुआ। जबकि, एक मार्च से 60 साल से अधिक और 45-59 साल के गंभीर रोगों से ग्रस्त लोगों को टीका लगाया जाने लगा। इस अभियान में असल तेजी एक अप्रैल के बाद आई, जब 45 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को इसमें शामिल किया गया।

किल्लत की शिकायतों पर केंद्र का जवाब 

वहीं दूसरी ओर टीके की किल्लत की शिकायतों के बीच केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शनिवार को कहा कि महाराष्‍ट्र को अब तक कोविड वैक्‍सीन की 1.10 करोड़ खुराकें मिल चुकी हैं। यही नहीं गुजरात और राजस्थान भी ऐसे राज्य हैं जिन्हें एक करोड़ से ज्यादा खुराकें दी गई हैं। केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि महाराष्ट्र को अगले तीन दिनों में 1100 से ज्यादा वेंटिलेटर मुहैया कराए जाएंगे। यही नहीं औद्योगिक उत्पादन इकाइयों से ऑक्सीजन की आपूर्ति भी कराई गई है।

‘टीका उत्सव’ मनाने की अपील

उल्‍लेखनीय है कि बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में देशवासियों से 11-14 अप्रैल के बीच ‘टीका उत्सव’ मनाने की अपील की थी। प्रधानमंत्री ने कहा था‍ कि 11 अप्रैल को ज्योतिबा फुले जी की जन्म जयंति है और 14 अप्रैल को बाबा साहेब की जन्म जयंति है इस बीच हम सभी टीका उत्सव मनाएं। पीएम मोदी ने कहा था कि हमारी कोशिश होनी चाहिए कि इस टीका उत्सव में हम ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीनेट करें…