Jain
ब्रेकिंग
प्लॉट खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान, बढ़ेगी सकारात्मक ऊर्जा और होगा भरपूर लाभ कर्ज से मुक्ति के लिए आजमाएं वास्तु शास्त्र से जुड़े उपाय भगवान कृष्ण से सम्बंधित 13 खास मंदिर 14 घंटे रेस्क्यू चलने के बावजूद 17 लोगों को नहीं खोज सके; घाटों पर गोताखोर तैनात जहां सीएम मनाएंगे अमृत महोत्सव, वहां कलेक्टर-आईजी ट्रैक्टर से पहुंचे भाद्रपद माह में जन्माष्टमी और गणेश उत्सव जैसे कई बड़े त्योहार घर में इस जगह पर रखें फेंगशुई ड्रैगन, सकारात्मक ऊर्जा का होगा संचार और बरसेगा धन इन लॉकेट को पहनने के जानें फायदे और नुकसान, धारण करने के जानें नियम सुबह से खिली है तेज धूप; जुड़ने लगे हैं गंगा के घाट अंबाला कैंट के PWD रेस्ट हाउस में सुनेंगे शिकायतें

किसानों के हित में केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, उपज का दाम सीधे बैंक खाते में मिलेगा, पूरे देश में लागू हुई व्‍यवस्‍था

नई दिल्‍ली। किसानों के आंदोलन के बीच सरकार ने उनके हित में बड़ा फैसला लिया है। इस बारे में जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट के जरिए बताया कि पंजाब में किसानों को उपज का दाम सीधा उनके बैंक एकाउंट में मिलने के साथ ही पूरे देश में यह व्यवस्था लागू हो गयी है। अब देश भर के किसान उपज को एमएसपी (MSP) पर बेचने के बाद पैसा सीधा अपने खातों में पायेंगे। आजादी के बाद से किसान हित में लाया गया यह एक बहुत बड़ा परिवर्तन है। किसानों के हित के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उठाए गए कदम से छोटे और सीमांत किसान लाभान्वित होगा।

उन्‍होंने कहा कि पंजाब में अब किसानों को एमएसपी (MSP) पर बेची गयी उनकी उपज का दाम सीधा उनके बैंक खातों में दिया जाएगा। इसका लाभ उन किसानों को भी मिलेगा, जो किराये की जमीन पर खेती करते हैं। सिस्‍टम में पारदर्शिता आने से वे किसी बहकावे में नहीं आएंगे और इन किसानों को भी उपज का पूरा दाम मिलेगा। पंजाब में किसानों को उपज का दाम सीधे उनके बैंक एकाउंट में मिलने के साथ यह व्‍यवस्‍था पूरे देश में लागू हो गई है।

ज्ञात हो कि केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने सरकारी खरीद को पारदर्शी बनाने के लिए सीधे बैंक खाते में भुगतान (डीबीटी) का नियम बना दिया है, जिसे पंजाब को छोड़ कर सभी राज्यों में लागू कर दिया गया है। वर्ष 2018 और 2019 के दौरान पंजाब को केंद्र की ओर से एक दर्जन बार पत्र लिखा गया, लेकिन पंजाब की ओर से हर बार इसे लागू करने में असमर्थता जाहिर की गई। कहा गया कि आढ़तियों के दबाव और मंडी नियमों के चलते ऐसा करना संभव नहीं हो पा रहा है।

खाद्य मंत्रालय, भारतीय खाद्य निगम के आला अफसरों ने लगातार पंजाब सरकार के संपर्क में रहकर इसकी कठिनाइयों को दूर करने की कोशिश की है ताकि आढ़तियों के मार्फत होने वाले भुगतान को रोका जा सके। लेकिन अभी तक बात नहीं बन सकी है।