Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

आरएसएस की भूमि सुपोषण अभियान की तैयारी

इंदौर। राष्ट्रीय सेवक संघ (आरएसएस) ने भूमि सुपोषण अभियान की तैयार की है। यह जन अभियान गत चार वर्षों से किए जा रहे व्यापक परामर्श का परिणाम है। कृषकों व कृषि वैज्ञानिकों के साथ परामर्शी बैठकें, कृषक अनुभव लेखन कार्यशालाएं, कृषकों के हित में एवं कृषि क्षेत्र में कार्यरत संस्थाओं से परामर्श के उपरांत 2018 में भूमि सुपोषण राष्ट्रीय संगोष्ठी इत्यादि से जन अभियान का खाका तैयार किया गया। राष्ट्रीय स्तर पर जन अभियान के संचालन का दायित्व 33 धार्मिक एवं सामाजिक संस्थाओं ने मिलकर लिया है ।

मालवा प्रांत (इंदौर-उज्जैन संभाग) में इस अभियान को चलाने हेतु सामाजिक व धार्मिक पंद्रह सदस्यीय समिति का गठन किया गया है जिसके संयोजक दयाराम धाकड़ व सहसंयोजक महेंद्र पाटीदार रहेंगे। भूमि सुपोषण एवं संरक्षण हेतु राष्ट्रीय जन अभियान का प्रारंभ मंगलवार से हो गया। यह भूमि पूजन मालवा प्रांत के शासकीय 15 जिलों के ग्रामों एवं नगरों में किया जा रहा है। सभी जगहों पर विधिवत भूमि पूजन चैत्र शुक्ल प्रतिपदा पर किया गया। मालवा प्रांत के संघ चालक प्रकाश शास्त्री ने बताया कि अभियान के प्रथम चरण में भूमि सुपोषण को साकार करने वाले कृषकों को सम्मानित किया जाएगा।

नगर क्षेत्रों में हाउसिंग कालोनी में जैविक-अजैविक अपशिष्ट को अलग रखना एवं कालोनी के जैविक अपशिष्ट से कंपोस्ट बनाना आदि गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। इसके अतिरिक्त सेमीनार, कार्यशाला, कृषक प्रशिक्षण, प्रदर्शनी आदि गतिविधियों का भी आयोजन होगा। भूमि सुपोषण एवं संरक्षण अभियान के लिए राष्ट्रीय मार्गदर्शक मंडल है और संचालन समिति में ऐसे कृषक हैं जो भारतीय कृषि चिंतन एवं भूमि सुपोषण संकल्पना को प्रत्यक्ष धरातल पर क्रियान्वित कर रहे हैं।