ब्रेकिंग
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने जेपी हॉस्पिटल में स्वास्थ्य मेले की व्यवस्थाओं का जायजा लिया एकदंत संकष्टी चतुर्थी कल अप्रैल के जीएसटी कर भुगतान की तारीख बढ़ी वैश्विक स्तर पर अकेले वायु प्रदूषण से 66.7 लाख लोगों की मौत ऑनलाइन गेमिंग, कैसिनो पर 28 फीसदी जीएसटी लगाने की तैयारी, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने दी प्रस्ताव को मंजूरी एक दिन की बढ़त के बाद फिसला बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी लाल निशान में क्लोज, पॉवर ग्रिड सबसे ज्यादा लुढ़का पीएम आवास योजना को लेकर सरकार ने किया बड़ा ऐलान! सभी पर पड़ेगा असर कश्मीर घाटी में अभी और होगी बारिश, जम्मू में चल सकती है लू, अलर्ट जारी सुप्रीम कोर्ट ने एजी पेरारिवलन को रिहा किया फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में आवेदन की प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जा सकती है

बीएससी सेकंड सेम की फर्जी मार्कशीट को लेकर विद्यार्थियों ने किया हंगामा

ग्वालियर। जीवाजी विश्वविद्यालय में बीएससी सेकंड सेमेस्टर की फर्जी मार्कशीट बनाने का मामला सामने आया है। विद्यार्थी इस मार्कशीट को लेकर जेयू पहुंचे और कुलपति सचिवालय के बाहर हंगामा किया। विद्यार्थियों के हंगामे को देखते हुए कुलपति ने दो दिन में जांच कराने का आश्वासन दिया है।

एबीवीपी के महानगर मंत्री अनमोल व्यास के नेतृत्व में विद्यार्थी बीएससी सेकंड सेम की मार्कशीट की छायाप्रति लेकर जेयू पहुंचे थे। छात्राें ने पहले ताे यूनिवर्सिटी गेट पर जमकर नारेबाजी की आैर फिर कुलपति सचिवालय के गेट पर धरने पर बैठ गए। विद्यार्थियों का आरोप था कि उच्च शिक्षा विभाग ने वर्ष 2017 में वार्षिक परीक्षा पद्धति लागू कर दी हैं, इसके बाद भी जून 2018 में बीएससी सेकंड सेमेस्टर नियमित की मार्कशीट कैसे बन गई। विद्यार्थियों के हंगामे को देखते हुए रेक्टर प्रो.उमेश होलानी उनसे मिलने पहुंचे। उन्होंने कहा कि बैठक चल रही है, इसलिए वह हंगामा न करें। इस पर विद्यार्थियों व रेक्टर में बहस भी हुई। छात्र नेताओं ने प्रदर्शन जारी रखा। इसके बाद कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला, कुलसचिव प्रो.आनंद मिश्रा विद्यार्थियों से मिलने पहुंचे और उन्होंने दो दिन में जांच कराने का आश्वासन दिया।

बीएससी नर्सिंग की भी बनाई थीं फर्जी मार्कशीटः बीएससी नर्सिंग चतुर्थ वर्ष (परीक्षा जून 2019) की फर्जी मार्कशीटें तैयार की गई थीं। राजभवन के आदेश पर जेयू ने अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई थी, लेकिन इस कांड को अंजाम देने वालों तक पुलिस नहीं पहुंच सकी है। विश्वविद्यालय थाने में इस मामले की जांच लंबित है। एबीवीपी ने इस फर्जीवाड़े को लेकर भी प्रदर्शन किया था।