ब्रेकिंग
उदयपुर हत्याकांड के विरोध में बंद रहा बाजार, चप्पे-चप्पे पर तैनात रहे जवान यूपीएसएसएससी पीईटी नोटिफिकेशन जारी काशी विश्वनाथ धाम में अब बज सकेगी शहनाई, होंगी शादियां प्रदेश में मंत्री से लेकर संतरी तक भ्रष्टाचार में संलिप्त, भ्रष्टाचारियों की गिरफ्तारी के मुद्दे पर आप लड़ेगी निगम चुनाव अज्ञात युवकों ने कॉलेज कैंटीन में बैठे 3 छात्रों पर किया तेजधार हथियार से हमला; 1 की हालत गंभीर सिवनी कोर्ट परिसर में न्यायाधीशों समेत 27 ने किया रक्तदान, वितरित किए प्रमाण पत्र पड़ोस में रहने आयी छात्रा से जान पहचान बना डिजिटल रेप करने वाले आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार लोगों ने की आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग, टायर जलाकर की नारेबाजी 12 जुलाई को देवघर जाएंगे पीएम मोदी रिलायंस जिओ डीटीएच प्लान्स ऑफर और आवेदन की जानकारी | Reliance Jio DTH Setup Box Plan Offer Online Booking Information in hindi

डायरिया के रूप में आया कोरोना, युवा ज्यादा प्रभावित

रायपुर। कोरोना की दूसरी लहर में लक्षण बदल गया है। लोगों को इस बार पता ही नहीं चल पा रहा। पेट दर्द के साथ डायरिया के मरीज अस्पताल पहुंचने पर कोरोना संक्रमित मिल रहे हैं। ऐेसे पीड़ितों में अधिकांश मरीज युवा वर्ग हैं। मरीजों के देरी से अस्पताल दाखिले और लक्षण में बदलाव के कारण सही समय में इलाज नहीं हो पा रहा है।

मरीजों में पूर्व की तरह गले में दर्द और सांस लेने में तकलीफ जैसे लक्षण के बजाए सीधे बुखार डायरिया और पेट दर्द जैसे दिक्कत हो रही है। गंभीर हालत में अस्पताल पहुंचने से उन्हें बचाने में मुश्किल हो रही। रायपुर एम्स से मिली जानकारी के अनुसार यह आंकड़ा दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। यह हाल एक जगह का नहीं बल्कि पूरे प्रदेश का है।

10 दिन के आंकड़े

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार 11 से 20 वर्ष की उम्र के 10 दिनों में 1994 युवा प्रभावित हैं। वहीं 21 से 30 वर्ष के 5594 कोरोना संक्रमित हुए हैं। इसमें युवा वर्ग में सबसे ज्यादा दिक्कत डायरिया की है

कोरोना के दूसरे फेस के लक्षण

– सूजन बढ़ने के साथ आंखों से पानी आना।

– दस्त, उल्टी, पेट में ऐंठन और दर्द में दर्द।

– पाचन क्रिया में समस्या।

– सुनने की क्षमता प्रभावित।

– सर्दी जुखाम।

– नीद कम आना।

जानिए क्‍या बोल रहे एम्‍स के डायरेक्‍टर

‘इस बार कोरोना के लक्षण में बदलाव है। डायरिया के केस ज्यादा आ रहे हैं। इसमें युवा वर्ग ज्यादा है। लक्षण पता नहीं चलने से देरी से मरीज पहुंच रहे हैं। इस वजह से इलाज में ज्यादा दिक्कत आ रही है।

– डॉ. नितिन एम. नागरकर, डायरेक्टर, एम्स, रायपुर