ब्रेकिंग
बकरी चोरी के शक में युवक की पीट-पीटकर हत्या सफल बनने के लिए रखें इन मंत्रों का ध्यान गुरुकुल स्कूल मडरिया रही विजेता, डीएफओ ने पुरस्कार देकर किया सम्मानित Business for College Students : कॉलेज स्टूडेंट्स पढ़ाई के साथ–साथ ये शानदान बिज़नेस करें, होगी तगड़ी कमाई खुशखबरी: टाटानगर से पटना तक चलेगी तेजस एक्सप्रेस मां-बेटी-बेटे पर एसिड अटैक, 5 दिन बाद भी दर्ज नहीं हुई FIR आतंकी योग को 2 AK56, 1 पिस्टल और 1 टिफिन बम के साथ किया गिरफ्तार सरकार को दी चेतावनी, कहा- जल्द मांगें पूरी नहीं की तो करेंगे बड़ा आंदोलन जबलपुर होकर जाएगी पटना-सिकंदराबाद स्पेशल ट्रेन 27 अक्टूबर से 1070 एकड़ प्रोजेक्ट में राइट्स बढ़ाने की रखी डिमांड, IFSC-यूनिवर्सिटी का दिया प्रपोजल

MSME की क्षमता पर पूरा भरोसा, पहले की तरह कोरोना की दूसरी लहर से भी पार पाएगा भारत: गडकरी

नई दिल्ली। भारत ने कोरोना की पहली लहर का सामना पूरी दृढ़ता से किया था और मजबूती के साथ निखरकर सामने आया। दूसरी लहर से भी देश इसी तरह से पार पाएगा और विकास की राह पर आगे बढ़ेगा। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) की क्षमता पर भरोसा जताते हुए गुरुवार को यह बात कही। अमेजन इंडिया के एक कार्यक्रम को वर्चुअल प्लेटफार्म के जरिये संबोधित करते हुए केंद्रीय एमएसएमई मंत्री ने कहा कि ग्लोबल सप्लाई चेन अहम बदलाव के दौर से गुजर रही है। तमाम देश चीन से बाहर आपूर्ति की संभावनाएं तलाश रहे हैं।

भारत के एमएसएमई सेक्टर में इस ग्लोबल सप्लाई चेन का हिस्सा बनने की व्यापक क्षमता है। उन्होंने महामारी की लहर से लड़ने में एमएसएमई सेक्टर की क्षमता पर पूरा भरोसा जताया।गडकरी ने कहा, ‘एमएसएमई भारतीय अर्थव्यवस्था का ग्रोथ इंजन हैं। कोरोना महामारी ने हमारे एमएसएमई के समक्ष एक गंभीर चुनौती रखी थी और मुझे यह कहते हुए गर्व हो रहा है कि हमारे उद्यम बदली परिस्थितियों में ढलने में सक्षम रहे और साथ ही देश को विकास के रास्ते पर लाने में भी मददगार बने।’

उन्होंने कहा कि सही इनपुट और गुणवत्ता को कायम रखते हुए टेक्नोलॉजी को अपनाने से यह सेक्टर लंबी दौड़ में सफल रहेगा। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि समय के साथ यह स्पष्ट हो गया है कि भविष्य में भारतीय एमएसएमई की प्रतिस्पर्धी क्षमता और सफलता में टेक्नोलॉजी की भूमिका बहुत अहम होने जा रही है। घरेलू और वैश्विक दोनों स्तर पर इसकी भूमिका रहेगी। उन्होंने कहा, ‘हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि भारतीय एमएसएमई सेक्टर का डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन हो, जिससे कंपनियां मौजूदा अवसरों का लाभ उठा सकें।’ गडकरी ने साथ ही साथ क्षमता निर्माण पर भी जोर देने की वकालत की।

ई-कॉमर्स प्लेटफार्म ने छोटे और हाशिए पर जी रहे सेलर्स को देश में ही नहीं देश के बाहर भी पहुंच बनाने में मदद की है। इसका उल्लेख करते हुए गडकरी ने कहा कि ऐसे समय में एमएसएमई का डिजिटलीकरण उच्च प्राथमिकता में रखने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सरकार एमएसएमई के दायरे में आने वाली कंपनियों की परिभाषा बदल दी है, जिससे इस उद्योग को ताकत मिलेगी।

गडकरी ने बताया कि एमएसएमई सेक्टर ने 11 करोड़ रोजगार के अवसर पैदा किए हैं। देश की जीडीपी में इसका एक तिहाई योगदान है। निर्यात में एमएसएमई की हिस्सेदारी आधी है।

टेस्ला के लिए भारत में मैन्यूफैक्चरिंग का शानदार मौका

एक अन्य कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि अमेरिका की दिग्गज इलेक्टि्रक कार कंपनी टेस्ला के समक्ष भारत में मैन्यूफैक्चरिंग शुरू करने का शानदार मौका है। गडकरी ने कहा, ‘मैं उन्हें सुझाव देना चाहूंगा कि यह अच्छा मौका है। टेस्ला वैसे भी भारतीय मैन्यूफैक्चरर्स से बड़ी संख्या में कंपोनेंट लेती है। ऐसे में यहां इनकी उपलब्धता की कोई कमी नहीं होगी। दूसरी ओर, भारतीय बाजार भी टेस्ला के लिए अच्छा है।’ उन्होंने भरोसा जताया कि अगले दो वर्ष में भारत टेस्ला के मानकों वाले इलेक्टि्रक वाहन बनाने में सक्षम हो जाएगा।