Jain
ब्रेकिंग
महू में दो गुटों में विवाद के बाद बम फोड़ा; 2 की मौत, 15 से ज्यादा घायल रोटी भी बदल सकती है किस्मत डीजीपी का सिल्वर मेडल भी आज लखनऊ में देंगे एडीजी जोन,खुशी की लहर देर शाम आई सभी के पास प्रशासन फोन कॉल, 30 स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों किया गया था आमंत्रित आजादी के अमृत महोत्सव के लिए रंग बिरंगी रोशनियों से सजा ग्वालियर दुगरी फेस-1 में हुआ हमला,अदालत में गवाही न देने के लिए हमलावर बना रहे थे दबाव भाजयुमो के मंत्री ने कार के सन रूफ से निकलकर झंडे की फोटो की थी पोस्ट 100 फूट ऊंचा लहरा रहा तिरंगा,लाइटों से जगमगाया शहर, दुल्हन की तरह सजी सड़कें रैली निकालकर लगाए भारत माता की जयकारे, बच्चों और ग्रामीणों ने किया समरसता भोज राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने किया ध्वजारोहण

संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना मिशन में भारत की अहम भूमिका, विदेश मंत्री ने की देश के जवानों की सराहना

नई दिल्ली। दुनिया भर में जारी संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना मिशन में भारतीय सैनिकों की संख्या काफी है। विदेश मंत्री एस जयशंकर (EAM Dr S Jaishankar) ने भारत को संयुक्त राष्ट्र के शांति स्थापना मिशन में  भारत का सबसे अधिक योगदान बताया। उन्होंने गुरुवार को कहा, ‘ प्रथम विश्व युद्ध में भारतीय सैनिकों ने जंग के मैदान से लेकर बाहर तक बेहतरीन प्रदर्शन किया और शांति स्थापना को लेकर लंबी राह की शुरुआत की। 50 मिशन के साथ पुलिस अधिकारियों के अलावा  2,53,000 जवान थे।’

बता दें कि सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने संयुक्त राष्ट्र से शांतिरक्षकों पर होने वाले खर्च को बढ़ाने का अनुरोध किया है। इसके तहत शांतिरक्षकों को अच्छी सुविधाएं और संवाद-संपर्क के बेहतर उपकरण देने के लिए कहा गया है।

इससे पहले विदेश मंत्री जयशंकर ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर देशों के शत्रुता उन्मूलन पर प्रस्ताव 2532 (2020) के क्रियान्वयन पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की डिजिटल खुली बहस के दौरान कहा था,’ मुश्किल परिस्थितियों में काम करने वाले संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षकों को हम दो लाख खुराक उपहार स्वरूप देने की घोषणा करना चाहते हैं।’ उन्होंने भगवद्गीता का जिक्र करते हुए कहा था, ‘हमेशा दूसरों का कल्याण की बात मन में रखकर अपना काम करो।’ संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना के अनुसार विश्व में अभी कुल 12 अभियानों में कुल 94,484 कर्मी तैनात हैं। संयुक्त राष्ट्र के शांति स्थापना अभियानों में कुल 121 देशों के कर्मी तैनात है, जिनमें से सबसे अधिक सैनिक भारत के हैं।