राजासांसी में गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी, धार्मिक ग्रंथ के अंग बिखरे मिले; लोगों ने आरोपित काबू कर पुलिस को सौंपा

राजासांसी के गांव धर्मकोट के गुरुद्वारा बेर साहिब में श्री गुरु ग्रंथ साहिब के अंग बिखरे मिले। लोगों ने गुरुद्वारा साहिब में लगे सीसीटीवी की फुटेज के आधार पर एक 65 साल के व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। पुलिस मामले में जांच में जुट गई है।

जागरण संवाददाता, अमृतसर। कस्बा राजासांसी के गांव में धर्मकोट के गुरुद्वारा बेर साहिब में शनिवार शाम को श्री गुरु ग्रंथ साहिब के अंग बिखरे मिलने पर लोगों रोष फैल गया। लोगों ने गुरुद्वारा साहिब में लगे सीसीटीवी की फुटेज के आधार पर गांव के ही एक 65 साल के व्यक्ति को पकड़ पुलिस के हवाले कर दिया है। फिलहाल उसका नाम सार्वजनिक नहीं किया गया है। प्रारंभिक जांच में यह बात सामने आई है कि आरोपित रोज गुरुद्वारा साहिब में माथा टेकने आता था।

गांव धर्मकोट के रहने वाले बाबा कुलबीर सिंह ने कहा कि घटना का पता उस समय चला जब शाम को लोग गुरुद्वारा साहिब में माथा टेकने के लिए पहुंचे। इस दौरान उन्होंने गुरुद्वारा साहिब में पवित्र अंग बिखरे देख उन्हें इस बारे में बताया। इसके बाद जब गुरुद्वारा साहिब में लगे सीसीटीवी की फुटेज देखी तो पता चला कि आरोपित ने अंगों की बेअदबी उस समय की जब गुरुद्वारा साहिब में कोई नहीं था। उसने 41 अंगों के साथ बेअदबी की है। वहीं, अजनाला के डीएसपी जसवीर सिंह ने कहा कि आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है और पूछताछ की जा रही है।

बेअदबी के घटना के बाद शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) के सदस्य गुरचरण सfxह ग्रेवाल ने कहा कि बेअदबी की घटनाएं दुखदायी हैं। मामले की तह तक जाने के लिए एसजीपीसी ने अपने प्रचारकों को गांव भेजा है। शरारती तत्व पंजाब का माहौल खराब करने की कोशिशें कर रहे हैं और पुलिस घटनाओं के पीछे के कारणों का पता नहीं लगा पा रही है।