ब्रेकिंग
विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... Selecting the right Virtual Info Room Supplier रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... Making a Cryptocurrency Beginning अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी ट्रक चोरी करने वाले 06 आरोपियो को किया गया गिरफ्तार, मंडी के पास लिंक रोड के किनारे खड़ी ट्रक को किया था चोरी, उड़ीसा से हुई बरामद

एक ही दिन घर से उठी, पिता की अर्थी और बेटी की डोली

शिवपुरी। नगर परिषद बैराड़ के वार्ड नंबर तीन में रहने वाली ग्राम पंचायत बैराड की पूर्व सरपंच आशा शर्मा के परिवार पर बेरहम कोरोना कहर बनकर टूटा। जिस घर में शादी की शहनाई बजना थी, वहां आज मातम छा गया। घर पर बेटी सुंदरी की शादी वाले दिन ही पिता अशोक शर्मा मंडी नाकेदार की मौत कोरोना से हो गई। खुशी वाले घर में मातम का माहौल छा गया

मंडी कर्मचारी अशोक शर्मा के घर में बीते राेज उनकी बेटी की शादी हाेना थी। कोरोना कर्फ्यू के कारण शासन की गाइडलाइन के अंतर्गत शादी की तैयारियां चल रही थी। इसी दाैरान अचानक घर के मुखिया अशाेक शर्मा की 20 अप्रैल को तबीयत गड़बड़ा गई। उनकाे जिला चिकित्सालय भर्ती कराया गया। जहां जांच में वह काेराेना संक्रमित पाए गए। संक्रमण से जूझ रहे अशाेक शर्मा अपनी बच्ची के शादी वाले दिन ही कोरोना से लड़ते हुए जिंदगी की जंग हार गए और शादी की खुशियां थोड़ी ही देर में मातम में बदल गई हैं। स्वजनों ने बेटी को पिता की मौत के बारे में नहीं बताया। पहले शादी बैराड़ से होना थी, लेकिन बदले हुए हालातों में लड़की पक्ष शिवपुरी आया और वर पक्ष के घर विवाह की रस्मे निभाई गईं। रस्मों के दौरान किसी ने भी दुल्हन को यह महसूस नहीं होने दिया की उसके पिता अब इस दुनिया में नहीं हैं। सभी घरवाले अपने दर्द को दिल में दबाए होठाें पर झूठी मुस्कान लिए रहे। इधर बेटी की डोली उठ रही थी और उधर पिता का कोविड गाइडलाइन के हिसाब से अंतिम संस्कार किया गया।