ब्रेकिंग
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने जेपी हॉस्पिटल में स्वास्थ्य मेले की व्यवस्थाओं का जायजा लिया एकदंत संकष्टी चतुर्थी कल अप्रैल के जीएसटी कर भुगतान की तारीख बढ़ी वैश्विक स्तर पर अकेले वायु प्रदूषण से 66.7 लाख लोगों की मौत ऑनलाइन गेमिंग, कैसिनो पर 28 फीसदी जीएसटी लगाने की तैयारी, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने दी प्रस्ताव को मंजूरी एक दिन की बढ़त के बाद फिसला बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी लाल निशान में क्लोज, पॉवर ग्रिड सबसे ज्यादा लुढ़का पीएम आवास योजना को लेकर सरकार ने किया बड़ा ऐलान! सभी पर पड़ेगा असर कश्मीर घाटी में अभी और होगी बारिश, जम्मू में चल सकती है लू, अलर्ट जारी सुप्रीम कोर्ट ने एजी पेरारिवलन को रिहा किया फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में आवेदन की प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जा सकती है

Hanuman Jayanti: हे हनुमानजी! कोरोना महामारी से दिलाएं मुक्ति

रायपुर।  कोरोना महामारी के नियमों का पालन करते हुए मंदिरों में सिद्धि और सर्वार्थ सिद्धि योग के संयोग में मंगलवार को हनुमान जयंती श्रद्धा उल्लास से मनाई गई। भक्तों को मंदिर में प्रवेश करने पर पाबंदी होने से पुजारियों ने ही आरती करके संपूर्ण विश्व से महामारी खत्म करने की प्रार्थना की। भक्तों ने अपने घर पर पूजा स्थल के समक्ष बैठकर पूजा की और हनुमान चालीसा का पाठ किया।

चालीसा की पंक्तियां ‘नाशै रोग मिटे सब पीरा, घर-घर में गूंज उठी। पूरे परिवार के लोगों ने एक साथ बैठकर कोरोना महामारी से छुटकारा दिलाने की प्रार्थना की। राजधानी के दूधाधारी मठ, पुरानी बस्ती के बावली वाले हनुमान, गुढ़ियारी के मच्छी तालाब हनुमान मंदिर समेत 10 से अधिक बड़े मंदिरों और गली मोहल्लों के मंदिरों में हनुमानजी की प्रतिमा का सिंदूर, चमेली के तेल, चांदी के बर्क से श्रृंगार किया गया। भक्त इसे चोला चढ़ाना कहते है।

बंद द्वार पर मत्था टेका

लॉकडाउन में शासन के नियमों के चलते सभी धार्मिक स्थल भक्तों के लिए बंद होने के बावजूद कई भक्त बंद मंदिर के द्वार पर ही मत्था टेककर अपने परिवार के कोरोना ग्रस्त मरीजों के अच्छे स्वास्थ्य लाभ की कामना की।

12 बजे मंदिरों में आरती

गुढ़ियारी हनुमान मंदिर के पुजारी पंडित दीना नाथ शर्मा ने बताया कि दोपहर 12 बजे हनुमानजी का जन्म हुआ था, इसलिए सुबह 11 बजे चोला अर्पित करके 12 बजे महाआरती की गई। केवल पुजारी, ट्रस्टी ही शामिल हुए।

दूधा धारी मठ में महंत रामसुंदर दास के नेतृत्व में आरती करके विश्व के समस्त प्राणियों के स्वास्थ्य की कामना की गई।

51 बार किया पाठ

घर-घर में रोट, गुड़, लड्डुओं का भोग अर्पित किया गया। कई भक्तों ने घर पर 11, 21 और 51 बार हनुमान चालीसा का पाठ किया। हनुमान चालीसा की चौपाइयां ‘जय हनुमान ज्ञान गुण सागर, जय कपिश तिहूं लोक उजागर’ गूंज उठा। इसके पश्चात महाआरती में ‘आरती कीजै हनुमान लला की, दुष्ट दलन रघुनाथ कला की…’ गाकर सदस्यों को प्रसाद वितरित किया।

प्रसिद्ध मच्छी तालाब हनुमान का दुग्धाभिषेक

मंगलवार को दो अद्भुत संयोग में पुरानी बस्ती स्थित प्रसिद्ध बावली वाले हनुमान और गुढ़ियारी मच्छी तालाब के प्रसिद्ध मंदिर में हनुमान प्रतिमा का दुग्धाभिषेक किया गया। इसके पश्चात सिंदूर, चमेली का तेल, चांदी के बर्क से श्रृंगार किया गया।

बूढ़ेश्वर चौक स्थित हनुमान मंदिर में भी सादगी से जन्मोत्सव मनाया गया। दोपहर 12 बजे भोग राग आरती की गई। राठौर चौक के मनोकामना सिद्ध हनुमान मंदिर , रेलवे स्टेशन परिसर के श्रीसंकट मोचन सर्वधर्म हनुमान मंदिर , न्यू मंडी गेट पंडरी के मनोकामना सिद्ध हनुमान मंदिर में भी सादगी से पूजा हुई।