ब्रेकिंग
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट का किया वर्चुअल भूमि पूजन कुतुब मीनार परिसर में होगी खुदाई-मूर्तियों की Iconography राष्ट्रीय स्तर के खेलों का आधारभूत ज्ञान दें विद्यार्थियों को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 13 हजार 976 किसानों के खाते में 9.68 करोड़ रूपए किया अंतरण नगरीय निकाय आरक्षण को लेकर बड़ी खबर: भोपाल में भी नए सिरे से होगा आरक्षण, बढ़ सकती है ओबीसी वार्डों की संख्या छत्तीसगढ़ की जैव विविधता छत्तीसगढ़ का गौरव है : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मोतिहारी के सिकरहना नदी में नहाने के दौरान तीन बच्चे डूबे मुजफ्फरपुर में प्रिंटिंग प्रेस कर्मी की गोली मारकर हत्‍या  दो माह में 13 बार बढ़ी सीएनजी की कीमत हार्दिक के जाने के बाद नरेश पटेल को रिझाने में जुटी कांग्रेस

भोजन की आवश्यकता है तो करें कंट्रोल रूम में संपर्क

रायपुर।  लाकडाउन की विषम परिस्थिति में रायपुर के स्वयंसेवी संगठनों और समाज सेवकों के अनुकरणीय सहयोग मिल रहा है। वे नगर निगम के सहयोग से शहर जरूरतमंद को भोजन पैकेट पहुंचाने के कार्य लगे हुए है।

वहीं, इसके लिए राजधानी के बूढ़ा तालाब के सामने स्टेडियम में जिला प्रशासन, नगर निगम और स्मार्ट सिटी लिमिटेड के सहयोग से बनाएं गए कंट्रोल रूम के सहयोग से 10 अप्रैल से अभी तक दो लाख से अधिक लोगों को भोजन के पैकेट उपलब्ध कराया जा चुका है।

यह सिलसिला लगातार जारी है। इस संकट की घड़ी में कोई भी व्यक्ति या नागरिक जिसे इस कठिन वक्त पर भोजन की आवश्यकता हो, वे इसके लिए बनाए गए कंट्रोल रूम के फोन नंबर पर 0771- 4055574 पर संपर्क कर सकते हैं।

इन संस्थाओं ने बढ़ाए हाथ

स्वयंसेवी संगठनों राधा स्वामी सत्संग व्यास, शिव शक्ति (चंद्रभान), महाराष्ट्र मंडल, मानव कल्याण परिषद, कुछ फर्ज हमारा भी, चरामेती फाउंडेशन, संत निरंकारी, स्टूडेंट सपोर्ट एवं वेलफेयर एसोसिएशन, मानव कल्याण परिषद, ब्लू बर्ड ऐसे ही इस स्वयंसेवी संगठन और समाज सेवक हैं, जिनके सहयोग ने रायपुर जिले के लाखों भूखे पेट को तृप्त कर रहे हैं। इन संगठनों ने मदद के हाथ बढ़ाए, जिसकी वजह से काफी लोगों को राहत मिली है।

होम आइसोलेशन के मरीजों के घर तक भोजन

स्वयंसेवी संगठन ‘बढ़ते कदम’ ने आइसोलेशन के मरीजों के घर तक भोजन पहुंचाने की व्यवस्था का अनुकरणीय जिम्मा उठाया है। इसके लिए बक़ायदा कंट्रोल रूम का संचालन किया जा रहा है, जिसमें समर्थ चैरिटेबल, आभास फाउंडेशन, चरेमिति, खालसा रिलीफ़, ग्रीन आर्मी के वालंटियर्स अपनी सतत सेवा दे रहे हैं।