ब्रेकिंग
Essay Help From Licensed Authors Come affrontare Nervosismo estremo मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज गांधी जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना 'महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना' के शुभारंभ महिला श्रमिक की मौत पर की खबर के बाद जागे परिवहन विभाग और ट्रैफिक पुलिस, नामली थाना क्षेत्र में की कार्रवाई AIIMS : ड्यूटी के दौरान मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर बैन अब तक 7 के शव बरामद, आईएएफ ने 2 चीता हेलीकॉप्टर किए तैनात, 8 लोगों का सफल रेस्क्यू क्या Pavitra Punia- Ejaz Khan ने  कर ली सगाई? दशहरे के दिन ही खुलता है रावण के इस मंदिर का द्वार खुद स्टार्ट किया पम्पिंग सेट, कहा- पशुओं में दूध की होती है वृद्धि हटाए गए कर्मियों को नौकरी देने की मांग, 19-20 को करेंगे भूख हड़ताल

देर शाम आई सभी के पास प्रशासन फोन कॉल, 30 स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों किया गया था आमंत्रित

करनाल: डिजिटल का आभार व्यक्त करते संगठन के जिलाध्क्ष अधिवक्ता नरेंद्र सुखन। हरियाणा के करनाल में प्रशासन द्वारा स्वतंत्रता सेनानियों को असंध में आयोजित होने वाले मुख्य कार्यक्रम में जिलेभर के स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों को बुलाया गया था, लेकिन उनको ले जाने के लिए प्रशासन द्वारा कोई व्यवस्था तक नहीं की। स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रित की दिक्कतों को देखते हुए डिजीटल भास्कर ने समाचार को सोमवार दोपहर बाद प्रमुखता के साथ चलाया। खबर चलते ही प्रशासन हरकत में आया और देर शाम को प्रशासन द्वारा प्रत्येक स्वतंत्रता सेनानी को फोन कर उन्हें अपने ब्लॉक स्तर पर होने वाले कार्यक्रम में जाने का निमंत्रण दिया। जिसके बाद जिले भर के स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों ने डिजिटल भास्कर का आभार व्यक्त किया।करनाल शहर से करीब 30 लोगों को किया था आमंत्रितबता दे कि आज असंध की नई अनाज मंडी में आयोजित होने वाले स्वतंत्रता दिवस समारोह में पहुंचने के लिए स्वतंत्रता सेनानियों की विधवाओं और आश्रितों को जिला प्रशासन की ओर से 30 लोगों को आमंत्रण पत्र भेजा गया है। इनमें स्वतंत्रता सेनानी की विधवा पत्नी व प्रथम पीढ़ी के उत्तराधिकारी शामिल थे। बुजुर्गों के लिए समारोह में पहुंचना कठिन महसूस हो रहा है लेकिन जैसे ही इसकी जानकारी डिजीटल भास्कर को लगी तो उनके इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया और देर शाम तक प्रशासन हरकत में आया।ज्यादातर के पास नहीं थे संसाधनजिन स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों को कार्यक्रम में बुलाया गया था उनमें से ज्यादातर के पास अपने संसाधन नहीं थे प्रशासन की ओर से किसी वाहन या बस का बंदोबस्त नहीं किया गया था, यहां तक की उन्हें प्रशासन की और से कोई सूचना भी नहीं दी गई। लेकिन खबर के असर के बाद जब प्रशासन की तरफ से सभी को फोन किया गया तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।भास्कर का किया आभार व्यक्त​​​​​​​स्वतंत्रता सेनानी उत्तराधिकारी संगठन के जिलाध्यक्ष अधिवक्ता नरेंद्र सुखन ने कहा कि सभी आमंत्रित सदस्यों को अपने वाहन से कार्यक्रम तक पहुंचना व वापस घर आना बहुत मुश्किल है। क्योकि करनाल से असंध की दूरी करीब 40 किलोमीटर था। भास्कर को जब उन्होंने इस समस्या को बताया तो इस मुद्दे को डिजिटल भास्कर ने प्रमुखता से उठाया और देर शाम तक प्रशासन की तरफ से उन्हें फोन आया और उन्हें ब्लॉक स्तर पर ही आमंत्रित किया गया। मैं संगठन की तरफ से का आभार व्यक्त करता हूं। जिसने हमारी बात को प्रशासन व सरकार तक पहुंचाया और हमें राहत दिलाई।