ब्रेकिंग
Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

आगर-मालवा में बैजनाथ महादेव की शाही सवारी को लेकर विवाद, पथराव और लाठीचार्ज

आगर-मालवा। परंपरागत रूप से निकलने वाली बैजनाथ महादेव की शाही सवारी को लेकर पुलिस प्रशासन और भक्तों के बीच भारी तनातनी के बाद पथराव और लाठीचार्ज हुआ । प्रतिवर्ष सावन के अंतिम सोमवार को निकलने वाली शाही सवारी 16 अगस्त को प्रशासन ने कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए सवेरे 7:00 बजे से प्रारंभ कर शहर भ्रमण कराते हुए 10:00 बजे समाप्त करवा दी थी ।

इसके बाद हिंदू संगठनों ने प्रशासन के उक्त कदम का विरोध करते हुए शहर में वाहन रैली एवं चक्का जाम कर सवारी दोबारा निकाले जाने की मांग की थी। ठीक उसी दिन दोपहर को मंत्री हरदीप सिंह डंग आगर पहुंचे थे जिन्होंने पत्रकारों के सामने घोषणा की थी कि 23 अगस्त को शाही सवारी दोबारा सब के सहयोग से निकलेगी।

पिछले 1 हफ्ते से भक्त मंडल और हिंदू संगठनों के नेता कार्यकर्ता 23 अगस्त को शाही सवारी दोबारा निकालने की जिद पर अड़े थे और उन्होंने सवारी निकालने की घोषणा कर दी । शनिवार को अचानक एक घटनाक्रम में बैजनाथ भक्त मंडल ने अपने आपको शाही सवारी से दूर करते हुए एक पत्र जारी कर कहा कि वह शाही सवारी का प्रस्ताव वापस ले रहे हैं, लेकिन हिंदू संगठन सवारी निकालने को अड़े रहे ।

इसी बीच रविवार को कांग्रेस के विधायक विपिन वानखेड़े की तरफ से एक पोस्टर इंटरनेट मीडिया में वायरल हो गया जिसमें उन्होंने 23 अगस्त को शाही सवारी निकाली जाने की बात कही । इसी तारतम्य में आज सुबह से ही प्रशासन और पुलिस अलर्ट मोड में नजर आए।

मंदिर आने जाने के सारे रास्ते पर नाकेबंदी कर दी गई, लेकिन दोपहर को आंदोलन दो अलग-अलग गुटों में नजर आया । एक गुट कांग्रेस समर्थक कार्यकर्ताओं का था जो मंदिर परिसर में शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहा था। इनको विधायक विपिन वानखेड़े के साथ पुलिस द्वारा नजरबंद किए जाने की बात सामने आ रही है । वहीं दूसरा ग्रुप हिंदू संगठनों का था जो छावनी नाका चौराहा नेशनल हाइवे पर सवारी निकालने की जिद पर अड़ा रहा और चक्काजाम कर दिया।

काफी समझाइश्‍ के बाद भी जब कार्यकर्ताओं ने नेशनल हाईवे से हटना मंजूर नहीं किया तो पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किया । इसके जवाब में कार्यकर्ताओं ने पथराव शुरू कर दिया । पथराव में पुलिस की एक गाड़ी के कांच फूटने के अलावा अन्य नुकसान की बात पुलिस द्वारा कही जा रही है । भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष मयंक राजपूत के साथ कई कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार किया है । कांग्रेस विधायक विपिन वानखेड़े, एनएसयूआई के राष्ट्रीय सचिव अंकुश भटनागर के अलावा कई कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर नलखेड़ा थाने पर भेजा गया है।