ब्रेकिंग
संजय गांधी टाइगर रिजर्व में बढ़ रही बाघों की संख्या, सैलानियों में भी हो रहा इजाफा सफीदों रोड पर 4 लोगों ने किया हमला, कोर्ट के आदेश पर FIR 50 लोगों को ट्रॉली में बेठाकर सड़क पर दौड़ रहा ट्रैक्टर, मूकदर्शक बनी पुलिस नॉर्थ कोरिया ने जापान के ऊपर से दागी बैलिस्टिक मिसाइल विद्याधाम परिसर गूंज रहा मां पराम्बा के जयघोष एवं स्वाहाकार की मंगल ध्वनि से वीडियो वायरल : एयरपोर्ट पर करीना कपूर के साथ बदसलूकी.. इस देवी मंदिर में है 51 फीट ऊंचे दीप स्तंभ, जान जोखिम में डालकर इन्हें कैसे जलाते हैं मां वैष्णो के दरबार में पहुंचे गृह मंत्री अमित शाह हर रूप में स्त्री का सम्मान करने से प्रसन्न होती हैं मां जगदंबा Navratri Durga Ashtami: दुर्गाष्टमी आज, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और कन्या पूजन महत्व

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने UP और Delhi Police को जारी किया नोटिस, ये है मामला

नई दिल्ली: राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग नेे उच्चतम न्यायालय के बाहर एक महिला और पुरुष द्वारा आत्मदाह करने की कोशिश के मामले से संबंधित शिकायत का संज्ञान लेते हुए उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक और दिल्ली के पुलिस आयुक्त को नोटिस जारी कर चार सप्ताह में विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा है।

आयोग को मिली शिकायत के अनुसार गत 16 अगस्त को आत्मदाह की कोशिश करने वाले इस पुरुष और महिला को उपचार के लिए राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उन दोनों की मौत हो गई। महिला ने उसके साथ यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। इस मामले में पुलिस पर भी उदासीनता बरतने और कारर्वाई न करने के आरोप लगाए गए हैं। आयोग ने दोनों अधिकारियों को इस मामले में कथित रूप से दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ की गई कारर्वाई की जानकारी देने को भी कहा है।

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक को पीड़ितों के परिवार के सदस्यों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का निर्देश भी दिया गया है। आयोग ने नोटिस जारी करते हुए कहा है कि यह चौंकाने वाली बात है कि यौन उत्पीड़न की कथित पीड़तिा व्यवस्था से भी पीड़ति महसूस कर रही थी। पीड़ति महिला और पुरुष ने आत्मदाह से पहले फेसबुक पर लाइव वीडियो रिकॉर्ड करते हुए कहा कि उसने जून 2019 को उत्तर प्रदेश के एक सांसद के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज करवाया था, लेकिन पुलिस अधिकारी अपराधी का ही समर्थन कर रहे थे। उसने आरोप लगाया कि दोषी सांसद के खिलाफ कारर्वाई करने की बजाय पुलिस ने उसके ही खिलाफ झूठा मामला दर्ज कर गैर जमानती वारंट जारी कर दिया।