Jain
ब्रेकिंग
प्लॉट खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान, बढ़ेगी सकारात्मक ऊर्जा और होगा भरपूर लाभ कर्ज से मुक्ति के लिए आजमाएं वास्तु शास्त्र से जुड़े उपाय भगवान कृष्ण से सम्बंधित 13 खास मंदिर 14 घंटे रेस्क्यू चलने के बावजूद 17 लोगों को नहीं खोज सके; घाटों पर गोताखोर तैनात जहां सीएम मनाएंगे अमृत महोत्सव, वहां कलेक्टर-आईजी ट्रैक्टर से पहुंचे भाद्रपद माह में जन्माष्टमी और गणेश उत्सव जैसे कई बड़े त्योहार घर में इस जगह पर रखें फेंगशुई ड्रैगन, सकारात्मक ऊर्जा का होगा संचार और बरसेगा धन इन लॉकेट को पहनने के जानें फायदे और नुकसान, धारण करने के जानें नियम सुबह से खिली है तेज धूप; जुड़ने लगे हैं गंगा के घाट अंबाला कैंट के PWD रेस्ट हाउस में सुनेंगे शिकायतें

विधानसभा का सत्र जल्द खत्म होने पर सियासी बयानबाजी

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा का सत्र 17 दिन पहले खत्म होने पर अब कांग्रेस और भाजपा नेताओं के बीच जुबानी जंग शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सत्र के छोटा होने पर विपक्ष की हठधर्मिता को जिम्मेदार बताया। अब नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार आने के बाद से कोई भी सत्र पूरा नहीं हुआ।

पिछले सत्र को भी समय से पहले समाप्त कर दिया गया। भाजपा एक-एक मिनट का उपयोग करना चाहती थी। हम चाहते थे कि भ्रष्टाचार की चर्चा हो, कानून व्यवस्था पर चर्चा हो। सीएम ने कहा था कि सबको नेता प्रतिपक्ष बनने की होड़ लगी है। इस पर कौशिक ने कहा कि बड़े-बड़े वादे किए और उसकी वादा खिलाफी हो रही है। सरकार को घोषणा पत्र की याद नहीं है, विपक्ष को घोषणा पत्र की याद दिलानी पड़ रही है।

वहीं, विधायक अजय चंद्राकर ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर तंज हुए कहा कि माननीय मुख्यमंत्री जी (छत्तीसगढ़ कांग्रेस) शानदार सत्र के लिए आपको और विशेष तौर पर और खास तौर पर आपके संसदीय कार्यमंत्री को बधाई। वहीं, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने सत्र जल्दी खत्म होने पर भाजपा को निशाने पर लिया। मरकाम ने कहा कि विपक्ष अब भी सत्ता मद से बाहर नहीं आई है।

मरकाम ने कहा कि भाजपा को अपने कार्यकाल को भी याद करना चाहिए। अंतागढ़ में कांग्रेस उम्मीदवार को खरीदना, झीरम घाटी में कांग्रेस की एक पीढ़ी की हत्या कराना और सीबीआइ जांच पर रोक लगाने जैसी घटना से भाजपा का चरित्र उजागर होता है। कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने अजय चंद्राकर के बयान पर पलटवार किया। तिवारी ने कहा कि इस सत्र में एक कमी रह गई। अजय चंद्राकर जो नेता प्रतिपक्ष के सर्वाधिक योग्य हैं, उन्हें भी उत्कृष्ट विधायक का तमगा प्रदान करना था। भाजपा में उनकी महान योग्यता का तिरस्कार किया जा रहा है।