ब्रेकिंग
Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

नवजोत सिंह सिद्धू पर कांग्रेस नेताओं का हमला, प्रियंका गांधी के करीबी आचार्य प्रमोद बोले- यह हाईकमान से धोखा

चंडीगढ़। नवजोत सिंह सिद्धू के पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफे के बाद पंजाब में ही नहीं दूसरे राज्यों में भी कांग्रेस नेता उनके इस फैसले को लेकर सवाल उठने लगे हैं। पंजाब के साथ-साथ हरियाणा, उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं ने सिद्धू के इस्तीफे को अलाकमान के साथ ‘धोखा’ करार दिया है। कांग्रेस में खासकर प्रियंका गांधी के करीबी माने जाने वाले आचार्य प्रमोद ने भी सिद्धू के इस्तीफे पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

आचार्य प्रमोद ने कहा कि पंजाब में पार्टी की साख दांव पर लगी है। ऐसे में नवजोत सिंह सिद्धू का इस्तीफा पार्टी हाईकमान के विश्वास के साथ एक बड़ा धोखा है। आचार्य प्रमोद कांग्रेस के टिकट पर भाजपा नेता राजनाथ के खिलाफ चुनाव लड़ चुके हैं।

हरियाणा में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व मंत्री कैप्टन अजय यादव भी सिद्धू के इस्तीफे से हतप्रभ हैं। उन्होंने भी सिद्धू के इस्तीफे पर निशाना साधा। कैप्टन अजय यादव ने ट्वीट कर कहा कि वह श्रीमती सोनिया गांधी से अनुरोध करते हैं कि पहले व्यक्ति की वफादारी, काबिलियत को आवश्य परखें, क्योंकि गलत आदमी को चुनने से पार्टी के कार्यकर्ताओं का मनोबल गिरता है।

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं सांसद डा. उदित राज ने भी सिद्धू पर निशाना साधा। कहा कि पार्टी ने सिद्धू के लिए क्या नहीं किया। उन्हें पहले मंत्री बनाया, फिर प्रदेश अध्यक्ष बनाया। कैप्टन अमरिंदर सिंह को हटाने की उनकी इच्छा पूरी हुई। पंजाब के नए सीएम चरणजीत सिंह चन्नी भी उन्ही की पसंद थे। शायद अनुसूचित जाति के सीएम से उनकी नाराजगी है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री डा. अश्विनी कुमार ने भी नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। कहा कि अब हम स्थिति को सुधारने में समय बरबाद नहीं कर सकते हैं। नया प्रदेश अध्यक्ष जल्द से जल्द चुनने की आवश्यकता है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा कि पंजाब सीमावर्ती राज्य है, जहां कांग्रेस पार्टी के साथ ऐसा हो रहा है, इसका क्या मतलब है? इससे ISI और पाकिस्तान को फायदा है। कांग्रेस को सुनिश्चित करना चाहिए कि वे एकजुट रहें। अगर किसी को दिक्कत है तो वो पार्टी के वरिष्ठ नेता से चर्चा करें। उन्होंने कहा कि जो कांग्रेस के लोग हमें छोड़कर चले गए हैं वो वापस आ जाएं, क्योंकि कांग्रेस ही ऐसी विचारधारा है जो इस देश की बुनियाद है।