ब्रेकिंग
अलवर पुलिस ने जीरो FIR दर्ज कर रेवाड़ी भेजी; महिला पर संगीन आरोप AAP सुप्रीमो ने ट्वीट लिखा- गुजरात का सह प्रभारी बनने के बाद AAP सांसद केंद्र के टारगेट पर टिफ़िन सर्विस का बिज़नेस कैसे शुरू करें | How to Setup Tiffin Service centre in hindi छत्तीसगढ़ के स्टार्टअप ईको सिस्टम को देखने जल्द आयेगा ऑस्ट्रिया का दल एंबुलेंस में पकड़े गए 25 करोड़ के फर्जी नोट नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. डहरिया ने नगर पंचायत समोदा को प्रदान की एम्बुलेंस गैंगस्टर जग्गू भगवानपुरिया के करीबियों को मारने की बना रहे थे प्लानिंग, 4 पिस्टल रिकवर मोहन भागवत - संकट में केवल भारत ने की श्रीलंका की मदद गांव मेघनवास के पास प्लास्टिक पाइप में फंसा था, नहीं हुई पहचान इटावा डीएम कार्यालय के बाहर किसानों का प्रदर्शन, पीड़ित बोले सुनवाई नही तो करेंगे आत्मदाह

बांग्लादेशी तस्कर ने शेल्टर होम से फरार युवतियों को दूसरी बार बेचना कुबूला

 इंदौर। बांग्लादेशी युवतियों की तस्करी के आरोपित मुनीरुल उर्फ मुनीर गाजी को महिला थाना पुलिस ने रिमांड पर ले लिया है। आरोपित ने बाणगंगा शेल्टर होम से फरार युवतियों को भी दलालों को बेचना स्वीकार लिया है। जिन युवतियों को बेचा उन्हें दलालों ने देहव्यापार के लिए मुंबई भेज दिया। पुलिस मुनीर से दलालों के संबंध में पूछताछ कर रही है।

टीआइ तहजीब काजी के मुताबिक आरोपित मुनीरूल उर्फ मुनीर पुत्र खालिग गाजी निवासी जसोर बांग्लादेश को एसआइटी सदस्य एसआइ प्रियंका शर्मा, भरत बड़े और कुलदीप ने सूरत से गिरफ्तार किया था। मुनीर की गिरफ्तारी पर 10 हजार रुपये का इनाम था और 11 महीने से तलाश थी। मुनीर ने पूछताछ में बताया कि सागर जैन उर्फ सैंडो की गिरफ्तारी के बाद वह सूरत भाग गया था।

यहां वह बांग्लादेशी युवतियों की खरीद फरोख्त करने लगा। मोहित गेस्ट हाउस से मुक्त करवाई युवतियों के शेल्टर होम पहुंचने की खबर मिली तो उसने संपर्क किया और फरार करवा दिया। मुनीर ने तीन युवतियों को दलालों को बेच दिया। हालांकि पूछताछ में बताया उसने जिन युवतियों को बेचा उनकी शादी करवाई है। शादी के बाद दलाल उन्हें देहव्यापार में धकेल देते हैं। दो युवतियों को मुंबई के दलाल लेकर गए हैं। पुलिस युवतियों की तलाश में जुटी हुई है।

महिला एसआइ को रुपयों का लालच दे रहा था तस्कर

टीआइ के मुताबिक, मुनीर बार-बार मोबाइल व सिम कार्ड बदल देता था। वह इंटरनेट कॉलिंग करता था। जब पुलिसकर्मियों ने उसे पकड़ा तो एसआइ प्रियंका शर्मा को छोड़ने के एवज में रुपयों का लालच दिया। एसआइ ने छोड़ने का आश्वासन दिया और उससे गिरोह के सदस्यों की सारी जानकारी ले ली। मुनीर ने बताया कि सूरत के जोलवापाटी, कड़ोदरा और लालबाग एरिया में बांग्लादेशी दलाल रहते हैं। उनके द्वारा खरीदी लड़कियां स्पा व फ्लैट में देह व्यापार करती हैं। एसआइ ने उन दलालों की जानकारी भी ले ली जिन्होंने शेल्टर होम से भागी युवतियां खरीदी थीं। बाद में अफसरों को पूरी घटना बताई और मुनीर को गिरफ्तार कर लिया।