ब्रेकिंग
Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

इंदौर में सितंबर में औसत से 43 प्रतिशत अधिक हुई बारिश

इंदौर। मानसून के चार माह में इस बार सितंबर माह में इंदौर में औसत से 43 प्रतिशत अधिक बारिश हुई है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक इंदौर में 5 अक्टूबर तक हल्की से मध्यम बारिश का दौर जारी रहेगा। शुक्रवार को भी शहर में शाम 4 बजे तक कुछ इलाकों में गरज-चमक के साथ तेज तो कुछ जगह हल्की बारिश का दौर दिखाई दिया। एयरपोर्ट स्थित वेदर स्टेशन पर रात 8.30 बजे तक 4 मिमी बारिश दर्ज हुई। वही रीगल क्षेत्र में 4.75 मिमी बारिश दर्ज हुई।

भोपाल स्थित मौसम केंद्र के मौसम विज्ञानी वेद प्रकाश सिंह के मुताबिक इंदौर में जून के पहले तीन सप्ताह में औसत बारिश हुई जबकि जून के आखिरी सप्ताह से जुलाई के तीसरे सप्ताह सूखे की स्थिति रही। वही जुलाई के आखिरी सप्ताह से अगस्त के आखिरी सप्ताह में सामान्य से थोड़ी अधिक बारिश हुई। सबसे ज्यादा बदलाव सितंबर माह में दिखा और इस माह इंदौर में औसत से 43 प्रतिशत अधिक बारिश हुई। पांच से छह अक्टूबर के बीच राजस्थान पश्चिमी हिस्से प्रति चक्रवात विकसीत हो रहा हैं, ऐसे में पश्चिमी हवाओं के आने से इंदौर में नमी में कमी आना शुरु होगी। ऐसे में पोस्ट मानसून की गतिविधियां शुरु हो जाएगी।

इंदौर सहित पश्चिमी मप्र के कुछ हिस्सों में तेज बारिश के साथ बिजली गिरने की संभावना

मौसम विज्ञानियों का कहना है कि वर्तमान में शाहीन चक्रवात पाकिस्तान व ओमान की ओर है। बिहार के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है और पश्चिमी विक्षोभ के कारण मध्य पाकिस्तान के ऊपर चक्रवाती घेरा हुआ है। इनके असर से इंदौर में अरब सागर की ओर से नमी आ रही है। यही वजह है कि इंदौर में सहित पश्चिम मप्र के कई हिस्सों में गरज-चमक के साथ तेज बारिश हो रही है। उज्जैन व इंदौर दोनों संभाग में 5 अक्टूबर तक यह स्थिति बनी रहेगी। पश्चिमी मप्र में देवास, खंडवा, खरगोन, उजैन, इंदौर, धार, रतलाम, मंदसौर, बड़वानी झाबुआ व अलीराजपुर जिलों में कही-कही कम समय में तेज बारिश बिजली गिरने की संभावना हैं ।

इंदौर शहर में हुई बारिश

920.4 मिमी: 1 जनवरी से 1 अक्टूबर 2021 तक

38 मिमी: 1 जनवरी से 31 मई तक हुई बारिश

882.1 मिमी: जून-सितंबर तक हुई बारिश

901 मिमी: जून-सितंबर माह में होती है औसत बारिश

मानसून के चार माह में हुई बारिश

जून- 75.9 मिमी

जुलाई- 175.1 मिमी

अगस्त 155.3 मिमी

सितंबर 475.8 मिमी

3 अक्टूबर: मानसून विदा होने की तय तारीख

संभावना: इस वर्ष 8 से 12 अक्टूबर तक इंदौर से विदा होगा मानसून।

20 अक्टूबर: पिछले वर्ष तय समय से 17 दिन देरी से विदा हुआ था मानसून।