किसानों के साथ ‘न्याय’ के बाद अब भाजपा पर कांग्रेस का वार

रायपुर: छत्तीसगढ़ में किसानों को राजीव गांधी न्याय योजना की चौथी किस्त मिलने के बाद अब कांग्रेस आक्रामक हुई है। कांग्रेस अब जिलों में भाजपा के दिखावे को उजागर करेगी। इसे लेकर राजधानी रायपुर सहित सभी जिलों में कांग्रेस ने संयुक्त रूप से पत्रकारवार्ता का आयोजन किया

कांग्रेस भवन में विधायक अनीता शर्मा, प्रदेश महामंत्री पंकज शर्मा, शहर अध्यक्ष गिरीश दुबे और ग्रामीण अध्यक्ष उधोराम वर्मा ने भूपेश सरकार की तारीफ करते हुए केंद्र सरकार पर निशाना साधा। गिरीश दुबे ने कहा कि जब देशभर के किसान केंद्र सरकार के खिलाफ समर्थन मूल्य के लिए महीनों से आंदोलनरत हैं।

वहीं, भूपेश सरकार ने 21.5 लाख किसानों से 91.5 लाख मीट्रिक टन धान समर्थन मूल्य पर खरीदकर एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है। इससे यह स्पष्ट है कि छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार किसानों के साथ खड़ी है। गिरीश दुबे ने कहा कि भाजपा और केंद्र सरकार छत्तीसगढ़ के किसानों और धान के इतने विरोधी हो गए कि राज्य सरकार को कुछ करने ही नहीं दे रहे हैं।

केंद्र सरकार न तो चावल ले रही है और न ही एथेनाल बनाने की अनुमति दे रही है। पूर्व मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह पर निशाना साधते हुए दुबे ने कहा कि उनके जैसे नेताओं के कारण ही राज्य सरकार को 1865 रुपये प्रति क्विंटल की दर से खरीदा धान खुले बाजार में 1400 रुपये प्रति क्विंटल में नीलाम करना पड़ रहा है। इस योजना ने भाजपा का दोहरा चरित्र भी उजागर कर दिया है।

दुबे ने सवाल किया, केंद्रीय खाद्य मंत्री पीयूष गोयल जब राजीव गांधी किसान न्याय योजना को बोनस बताते हैं तो भाजपा नेता चुप क्यों रह जाते हैं। उधोराम वर्मा ने कहा कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना के दूसरे चरण में धान, गन्ना, मक्का के अलावा दलहन, तिलहन गौण अन्न् रागी, कोदो, कुटकी उत्पादक किसानों को भी शामिल किया गया है। इस योजना से भूमिहीन और सीमांत किसानों को शामिल कर मुख्यमंत्री ने बड़ी आबादी की आर्थिक उन्‍नति के द्वार खोल दिए हैं।