Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

एमपीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा 11 अप्रैल को, शहर में बनाए 67 केंद्र

ग्वालियर। मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग एमपीपीएससी 2020 की प्रारंभिक परीक्षा 11 अप्रैल को होगी। इस परीक्षा से तय 235 पदों को भरा जाएगा। इसके लिए शहर में 67 परीक्षा केंद्र बनाए गए है, जहां 25 हजार विद्यार्थी प्रारंभिक परीक्षा देने के लिए पहुंचेंगे। इससे पहले आयोग छह से दस अप्रैल के बीच वेबसाइट पर प्रवेश पत्र अपलोड करेगा। परीक्षा देने वाले सभी परीक्षार्थियों को कोविड-19 के सभी नियमों का सख्ती से पालन करना होगा। मास्क, सैनिटाइजेशन और दो गज की दूरी अनिवार्य रहेगी। स्क्रीनिंग के दौरान जिसका तापमान सामान्य से अधिक पाया जाएगा, उसे अलग कमरे में बैठकर प्रारंभिक परीक्षा देना होगी।

एडमिशन फेयर से चुना लाड़ले के लिए स्कूलः सनवैली के पास स्थित नवनिर्मित प्रगति विद्यापीठ कैंपस में शनिवार से दो दिवसीय एडमिशन फेयर शुरू हुआ। इसमें कई परिवार पहुंचे। जिन्होंने स्कूल के इंफ्रास्ट्रक्चर और वहां की गतिविधियों के बारे में विस्तार से जाना। स्कूली शिक्षकों ने अभिभावकों की शंकाओं का समाधान किया। बच्चों के लिए आर्ट अटैक, ट्रेजर हंट, फ्रिज डांस और स्पिन अ व्हील गतितिविधियों का संचालन किया गया। कई अभिभावकों ने कैंपस से बाहर निकलते समय अपने लाड़ले या लाड़ली के लिए एडमिशन प्रक्रिया पूरी की।

कार्यशाला में हुई दिव्यांगों को मिलने वालीं सुविधाओं पर चर्चाः भारतीय पुनर्वास परिषद एवं संस्था सिद्धेश्वर महाराज विकलांग कल्याण शिक्षा व समाज कल्याण समिति ने दिव्यांगजन कार्यशाला का आयोजन किया। इसमें ओलंपिक भारत के स्टेट खेल निदेशक एतिसमुद्दीन, प्रदेश सचिव राजेंद्र पाराशर, जिला शिक्षा केंद्र की एपीसी आइईडी कृष्णा अग्रवाल, संभाग सचिव रामधुन सिंह राठौर, जिला ग्वालियर के सचिव डा. मानवेंद्र सिंह और समाजसेवी राकेश पचौरी विशेषरूप से मौजूद थे। सभी विशेषज्ञों ने कार्यक्रम में दिव्यांगों के उत्थान के लिए संचालित की जा रहीं योजनाओं पर विस्तार से प्रकाश डाला। अंत में प्रतिभागियों को प्रमाणपत्र वितरित किए गए।