ब्रेकिंग

अनुबंध बढ़ने तक प्रतिदिन मानदेय पर सेवा देंगे संविदा पैरामेडिकल कर्मचारी

बिलासपुर।  दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे केंद्रीय अस्पताल में कोरोना महामारी के मद्देनजर रखे गए संविदा पैरामेडिकल कर्मचारियों का एक साल का अनुबंध समाप्त हो गया। इस पर चिंता जताते हुए और बेहतर उपचार को देखते हुए श्रमिक यूनियन के पदाधिकारियों ने केंद्रीय चिकित्सालय के निदेशक डा. बी चक्रवर्ती से मुलाकात की।

उन्हें समस्याओं से अवगत कराया और अनुबंध बढ़ाने की मांग रखी। जिस पर उन्होंने आश्वासन दिया। साथ ही जब तक प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती कर्मचारियों को प्रतिदिन के हिसाब से मानदेय पर रखने की मांग मान ली है।

शुरुआती दौरा मेंकोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही थी। रेलवे के इस केंद्रीय अस्पताल को भी कोविड- 19 अस्पताल बनाया गया। यहां पड़ने वाले स्वास्थ्यकर्मियों की आवश्यकता को देखते हुए रेलवे ने पैरामेडिकल स्टाफ की संविदा नियुक्ति की। पर अब अनुबंध समाप्त हो गया।

इधर कोरोना की दूसरी लहर ने कहर मचाकर रखा है। प्रतिदिन केंद्रीय रेलवे अस्पताल में संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। कर्मचारियों की कमी के कारण इलाज प्रभावित हो रहा था। इसे देखते हुए ही यूनियन का एक प्रतिनिधिमंडल रेलवे अस्पताल पहुंचा। उन्होंने कहा कि रेलवे बोर्ड के नियमानुसार अवधि बढ़ाने के निर्देश दिए जाने थे। उन्होंने इस प्रक्रिया को शीघ्र पूरा करने मांग रखी।

इसके अलावा टीकाकरण के लिए तीन नए केंद्र बनाने का मुद्दा भी रखा गया। पदाधिकारियों ने कोविड वार्ड में स्टाफ की कमी से पूर्ति करने की मांग भी रखी। जिस पर 10 और नर्स और वार्ड स्टाफ की रखने पर सहमति बनी।

प्रतिनिधिमंडल में मंडल संयोजक सी नवीन कुमार, उपाध्यक्ष एसएम जयप्रकाश, सहायक महामंत्री के अमर कुमार, एस बंधोपाध्याय, पीके यादव, एके पांडे, एमआर कश्यप ,बेंजामिन, तारकेश्वर एवं सभी शाखाओं के पदाधिकारी शामिल थे।