ब्रेकिंग
सोमवार के दिन धन लाभ होगा या जाएंगे यात्रा पर, पढ़ें, आज का अपना राशिफल मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट का किया वर्चुअल भूमि पूजन कुतुब मीनार परिसर में होगी खुदाई-मूर्तियों की Iconography राष्ट्रीय स्तर के खेलों का आधारभूत ज्ञान दें विद्यार्थियों को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 13 हजार 976 किसानों के खाते में 9.68 करोड़ रूपए किया अंतरण नगरीय निकाय आरक्षण को लेकर बड़ी खबर: भोपाल में भी नए सिरे से होगा आरक्षण, बढ़ सकती है ओबीसी वार्डों की संख्या छत्तीसगढ़ की जैव विविधता छत्तीसगढ़ का गौरव है : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मोतिहारी के सिकरहना नदी में नहाने के दौरान तीन बच्चे डूबे मुजफ्फरपुर में प्रिंटिंग प्रेस कर्मी की गोली मारकर हत्‍या  दो माह में 13 बार बढ़ी सीएनजी की कीमत

इंडोर स्टेडियम में अव्यवस्था से कोरोना मरीज बेहाल

रायपुर।बलबीर सिंह जुनेजा इंडोर स्टेडियम में बने कोविड अस्पताल में मरीजों को पर्याप्त सुविधा नहीं मिल पा रही है। सुविधा न मिलने की वजह से वहां भर्ती मरीजों का बुरा हाल है। वहीं, करीब एक दर्जन से अधिक मरीजों की मौत हो चुकी है। नगर निगम ने अस्थाई तौर पर अस्पताल खोल दिया लेकिन संसाधनों का अभाव है।

कोविड सेंटर में 360 बिस्तरों पर सिर्फ पांच डॉक्टरों की ड्यूटी लगाई गई है। मरीजों की संख्या अधिक होने से डॉक्टर पर्याप्त मात्रा में मरीजों को समय नहीं दे पा रहे हैं। नगर निगम के अधिकारी का कहना है कि अस्पताल खुलने के बाद पहले दिन थोड़ी अव्यस्था हो गई थी, लेकिन वर्तमान में हालात ठीक हैं।

राजधानी में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। वर्तमान में कोरोना के मरीज उपचार के लिए भटक रहे हैं। क्योंकि प्रदेशभर में पर्याप्त आक्सीजन बेड नहीं है। इसको देखते हुए रायपुर नगर निगम और स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा सरदार बलबीर सिंह जुनेजा इंडोर स्टेडियम को 360 बिस्तरों का सर्व सुविधायुक्त अस्थाई अस्पताल बनाया है।

नगर निगम ने अस्पताल बनाकर स्वास्थ्य विभाग को सौंप दिया है। स्वास्थ्य विभाग ने 360 बिस्तरों वाले अस्पताल पर सिर्फ पांच डॉक्टर, यानि 72 मरीज पर एक डॉक्टर को तैनात किया गया है। मरीजों ने आरोप लगाया है कि डॉक्टर भी समय पर उपलब्ध नहीं रहते हैं। कई मरीजों ने तो ऐसा आरोप लगाया है सिर्फ पैसा खाने के लिए इसे अस्थाई अस्पताल बनाया गया है। सुविधा के नाम पर मरीजों को कुछ नहीं मिल रहा है। जिससे मरीज परेशान हो रहे हैं।

85 प्रतिशत के ऊपर वालों को प्रवेश

अधिकारी ने बताया कि कोविड सेंटर खुलने के बाद गंभीर मरीज अस्पताल पहुंच गये थे। इंडोर स्टेडियम में कोविड सेंटर बनाया गया है ना कि अस्पताल है। कोविड सेंटर में कम आक्सीजन वालों को भर्ती कर लिया गया था। जबकि गंभीर बीमार मरीजों को आंबेडकर या फिर एम्स अस्पताल में उपचार के लिए जाना चाहिए। इंडोर स्टेडियम को लोग अस्पताल समझकर पहुंच रहे हैं। इसलिए थोड़ी दिक्कत हो रही थी लेकिन अब मरीज का आक्सीजन लेबर 85 प्रतिशत के ऊपर है तो उनको ही कोविड सेंटर में रखा जा रहा है।

इंडोर स्टेडियम में यह है व्यवस्था

अस्थाई कोविड अस्पताल में भर्ती मरीजों के रुचि के अनुरूप प्रेरक फिल्मों, सामाचार, टीवी सीरियल के प्रसारण के लिए केबल नेटवर्क के जरिए टीवी कार्यक्रम देख सकेंगे। कैरम व अन्य इंडोर गेम की व्यवस्था की गई है। चिकित्सकों से मरीज अपनी जरूरतें बता सकें, इसके लिए वार्ड में इंटर काम की सुविधा दी गई है। मरीज अपने परिजनों से बात कर सकें, इसके लिए टेबलेट व फ्री वाई-फाई जैसी आधुनिक सुविधाओं से इसे लैस किया गया है। मरीजों की देखभाल व त्वरित निगरानी के लिए सभी वार्ड में क्लोज सर्किट कैमरे लगाए गए हैं, जिसके माध्यम से यहां ड्यूटी कर रहे अधिकारी, चिकित्सक व स्टाफ उनकी देखभाल करेंगे।

जानिए महापौर क्‍या बोल रहे

‘कोरोना के मरीजों को दिक्कत न हो इसके लिए सरदार बलबीर सिंह जुनेजा इंडोर स्टेडियम में 360 बिस्तरों का सर्व सुविधायुक्त अस्थाई अस्पताल बनाकर स्वास्थ्य विभाग को सौंप दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग को अब व्यवस्था संभालनी चाहिए। निगम का काम था बनवाकर देना बाकि की जिम्मेदारी स्वास्थ्य विभाग की है।’

एजाज ढेबर-महापौर, रायपुर नगर निगम