ब्रेकिंग
भाजपा विधायक का समर्थक निकला धर्मांतरण मामले का मुख्य आरोपी सुनील जाखड़ भाजपा में हुए शामिल इंदौर में पिछड़ा वर्ग की पांच सीटें बढ़ेंगीं प्रदेश में सामाजिक सौहार्द बनाए रखना सर्वोच्च प्राथमिकता : मुख्यमंत्री चौहान जब मंटूराम ने मुख्यमंत्री को बताया कि पत्नी संग रातभर करता हूं गोबर की चौकीदारी औद्योगिक क्षेत्र पीथमपुर की पारेषण क्षमता में वृद्धि पीएम क‍िसान और राशन कार्ड के लाभार्थ‍ियों में हड़कंप, सरकार ने भेजा र‍िकवरी नोट‍िस फीचर फोन से बिना इंटरनेट भी आप कर सकते हैं UPI पेमेंट, ये है तरीका क्या जरूरी दवाइयों की कीमत कम होने वाली है? कल NPPA की बैठक में लिया जाएगा फैसला सच बोलो तो बदनाम करेंगे बड़े नेता : हार्दिक पटेल

कोरोना पॉजिटिव दूल्हे ने रचाई शादी, दुल्हन समेत सात फेरे करवाने के लिए पंडित ने भी पहनी PPE किट

रतलाम: मध्य प्रदेश में कोरोना काल में एक अनोखी शादी का वीडियो वायरल हुआ है। जिसमें देखा जा सकता है कि PPE किट पहनकर दूल्हा- दुल्हन सात फेरे ले रहे हैं। परिवार के और लोग भी वहां मौजूद हैं सभी ने PPE किट पहनी हुई है। इन लोगों को पीपीई किट क्यों पहननी पड़ी वजह काफी चौंकाने वाली है।  लॉकडाउन की वजह से प्रदेश भर में बैंड, बाजा और बारात पर रोक है। कम लोगों की मौजूदगी में ही फेरे लिए जा सकते हैं, ऐसे में रतलाम में हुई एक शादी चर्चा में है। यहां दूल्हा-दुल्हन ने सरकारी अफसरों की मौजूदगी में PPE ड्रेस पहनकर सात फेरे लिए।

दरअसल, प्रशासन को जानकारी मिली थी कि शहर के एक मांगलिक भवन में शादी हो रही है। दूल्हा कोरोना पॉजिटिव है। खबर पाकर तहसीलदार नवीन गर्ग शादी रुकवाने दूल्हे के घर परशुराम विहार पहुंचे। दूल्हे की कोरोना रिपोर्ट 19 अप्रैल को पॉजिटिव आई थी।

इसके बावजूद वह सात फेरे लेने जा रहा था, जिसके बाद प्रशासन ने शादी रोकने के लिए कहा, लेकिन परिवार के सदस्यों ने घर में उम्रदराज बुजुर्ग होने का हवाला देकर शादी न टालने की मिन्नत की तो अफसर भी पिघल गए। आला अधिकारियो के निर्देश पर इस शादी की परमिशन दे दी गई। शर्त यही रखी गई थी कि दूल्हा-दुल्हन पीपीई किट पहनकर शादी करेंगे। इस पर दोनों परिवार सहमत हो गए और शादी संपन्न हुई।

हालांकि दूल्हे के पिता की मानें तो प्रशासन ने बड़े बुजुर्गों के कहने पर शादी तो करवा दी, लेकिन अब वे कार्रवाई की बात कह रहे हैं। प्रशासन का कहना है कि प्रोटोकॉल को तोड़कर ये शादी की जा रही थी, जो बिलकुल भी बर्दास्त नहीं की जा सकती।

बताया जा रहा है कि दूल्हा पेशे से इंजीनियर है और वधु पक्ष रतलाम के ही महेश नगर में रहता है। शादी में वर पक्ष की ओर से 4 और वधु पक्ष की तरफ से पंडित को मिलाकर 4 लोग, यानि कुल 8 लोग इस शादी में शामिल हुए। शादी के बाद दूल्हे और दुल्हन का कहना था कि उन्हें उम्मीद नहीं थी। लेकिन बड़े बुजुर्गों की सलाह के बाद और स्थानीय प्रशासन की स्वीकृति से शादी संपन्न हो सकी और उन्हें बहुत खुशी है। इलाके में इस शादी की खासी चर्चा है।